चीन ने चली एक और नई चाल, इस देश के पास बसाया गांव, जानें इसके पीछे का मकसद…

भारत और चीन के बीच तनाव एक बार फिर बढ़ने की आशंका है। सूत्रों के मुताबिक, चीन ने सिक्किम में भारतीय सीमा के करीब एक गांव बसा लिया है। यह गांव पड़ोसी देश भूटान के इलाके में दो किलोमीटर अंदर है और डोकलाम के उस पॉइंट से बेहद करीब है, जहां 2017 के दौरान भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने आ गई थीं और दोनों दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था। यह खुलासा उस वक्त हुआ, जब चीन के एक वरिष्ठ पत्रकार ने ट्वीट के माध्यम से अपने देश के ‘विकास’ के बारे में जानकारी दी थी। हालांकि, विवाद बढ़ने पर चीन के पत्रकार ने अपने ट्वीट डिलीट कर दिए। 

Ujjawal Prabhat Android App Download

पांगडा रखा गया है गांव का नाम
बता दें कि चीन के सीजीटीएन न्यूज में सीनियर प्रोड्यूसर शेन सिवेई ने गुरुवार सुबह (19 नवंबर) कुछ ट्वीट किए। इनमें उन्होंने एक गांव की तस्वीरें साझा की थीं। शेन ने अपने ट्वीट में बताया था कि यह डोकलाम का इलाका है। इस गांव का नाम पांगडा रखा गया है।
चीनी पत्रकार ने पोस्ट किया था नक्शा
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह गांव डोकलाम के उस पॉइंट से महज 9 किलोमीटर दूर है, जहां 2017 के दौरान भारतीय और चीनी सेनाएं आमने-सामने आ गई थीं। बता दें कि चीनी पत्रकार ने पांगडा गांव का नक्शा भी पोस्ट किया था, जिसमें गांव भूटान की सीमा के दो किलोमीटर अंदर दिखाया गया। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो यह अब तक स्पष्ट नहीं है कि भूटान ने चीन को यह गांव बसाने की अनुमति दी थी या नहीं। दरअसल डोकलाम भूटान का इलाका है। इस पर चीन अपना दावा करता है, जबकि भारत से यह सटा होने से वह भी इस विवाद का एक पक्षकार है। भारत भूटान के समर्थन में खड़ा है। 

पिछले साल बसाया गया गांव!
इस मामले में ओपन इंटेलिजेंस सोर्स डेट्रास्फा ने भी एक तस्वीर साझा की है, जिसमें बताया गया है कि पांगडा गांव कुछ समय पहले ही बसाया गया। वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा भी किया जा रहा है कि चीन ने पिछले साल यानी 2019 में ही यहां निर्माण कार्य शुरू किया था। 

बढ़ सकती है भारत की परेशानी
डोकलाम के पास चीन द्वारा गांव बसाने की जानकारी मिलने से भारत की परेशानी बढ़ सकती है। दरअसल, दोनों देशों के बीच काफी समय से लद्दाख बॉर्डर पर तनाव चल रहा है। ऐसे में डोकलाम के करीब इस गांव के बसने की जानकारी मिलने के बाद लद्दाख में तनाव और बढ़ सकता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button