निर्माण कार्यों का जायजा लेने के लिए केदारनाथ और बदरीनाथ जा सकते हैं मुख्‍यमंत्री पुष्‍कर सिंह धामी

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी 20 जुलाई को केदारनाथ और 21 जुलाई को बदरीनाथ जा सकते हैं। इस दौरान वह दोनों धामों में चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यों का जायजा लेंगे। मुख्यमंत्री के इस दौरे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नवंबर में संभावित दौरे से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

केदारपुरी का पुनर्निर्माण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार है। वह खुद भी केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों की लगातार मानीटरिंग कर रहे हैं। केदारनाथ में प्रथम चरण के कार्य लगभग पूर्ण होने को हैं, जबकि अब द्वितीय चरण के कार्य प्रारंभ होने हैं। यही नहीं, प्रधानमंत्री ने पूर्व में केदारनाथ की तरह ही बदरीश पुरी विकसित करने के मद्देनजर मास्टर प्लान तैयार करने के निर्देश सरकार को दिए थे।

इस कड़ी में प्रदेश सरकार ने बदरीश पुरी का मास्टर प्लान तैयार करने के साथ ही निर्माण कार्यों के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और नामी कंपनियों से सीएसआर मद से धनराशि भी जुटाई है। सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नवंबर में केदारनाथ व बदरीनाथ का दौरा कर सकते हैं। इससे पहले प्रदेश सरकार सभी तैयारियां और व्यवस्था को चाक-चौबंद करना चाहती है।

सूत्रों ने बताया कि इसी क्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी 20 जुलाई को केदारनाथ और 21 जुलाई को बदरीनाथ धाम का दौरा कर सकते हैं। मुख्यमंत्री दोनों धामों में अधिकारियों के साथ पुनर्निर्माण कार्यों के संबंध में विमर्श भी करेंगे। हालांकि, उनका यह दौरा मौसम के रुख पर निर्भर रहेगा। बता दें कि मुख्यमंत्री ने हाल में हुई समीक्षा बैठक में केदारनाथ में पुनर्निर्माण कार्यों का स्थलीय निरीक्षण करने की बात कही थी।

22 से तीन दिनी कुमाऊं दौरे पर रहेंगे धामी

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी 22 जुलाई से कुमाऊं के तीन दिवसीय दौरे पर रहेंगे। मुख्यमंत्री के प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार वह 22 से 24 जुलाई तक कुमाऊं में अपने विधानसभा क्षेत्र खटीमा समेत अन्य स्थानों का भ्रमण करेंगे। मुख्यमंत्री बनने के बाद धामी का यह पहला कुमाऊं दौरा है।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × five =

Back to top button