कुछ इस तरह मांडू के सनसेट पॉइंट पर मनाए नए साल का जश्न

मांडू (धार)। पर्यटन नगरी मांडू नववर्ष और रविवार होने से गुलजार रही। देश-विदेश से आए सैलानियों ने नववर्ष का स्वागत कर ऐतिहासिक इमारतों और प्राकृतिक सौंदर्य को निहारा।नववर्ष की पूर्व संध्या पर आकर्षक आतिशबाजी ने हसीन वादियों को रोशन कर दिया। वर्ष के पहले दिन यहां 12 से 15 हजार सैलानी पहुंचे। रानी रूपमति, बाज बहादुर, अशरफी महल, जामी मस्जिद और जहाज महल में जबर्दस्त भीड़ थी।

नववर्ष के पहले दिन पर्यटन नगरी में सैलानियों का सैलाब उमड़ा। रानी रूपमति, जहाज महल आदि स्थानों पर बड़ी संख्या में पर्यटक नजर आए। अपने-अपने स्तर व अंदाज में 31 दिसंबर को विदाई देकर पर्यटकों ने नववर्ष का स्वागत किया। नए साल के जश्न में लोग डीजे पर नाचते हुए नजर आए। मांडू में नए वर्ष के आगमन के पूर्व जश्न मनाने के लिए सैलानियों का जमावड़ा लगा। इस बार वर्ष के अंतिम दिन रविवार आने के कारण उम्मीद से अधिक पर्यटक मांडू में जमा हुए। यही वजह थी कि हर तरफ पर्यटकों की चहल-पहल रही। ऐसे में दिनभर नाच, गाना, मस्ती के बीच बिताया।

सांझ ढलते ही 2017 को बिदाई देने के साथ नए साल का जश्न भी चरम पर पहुंच गया। रात में यहां पर कैम्प फायर करके नाचते गाते हुए 2018 की अगवानी की गई। मांडू में भी यहां के होटल संचालकों से लेकर अन्य व्यापारियों ने विशेष रूप से मांडू में सज्जा की थी। दिनभर यहां पर्यटकों की आवाजाही रही। 40 हजार से अधिक पर्यटकों ने यहां पहुंचकर न केवल पर्यटन का लुत्फ लिया बल्कि यहां की ऐतिहासिक धरोहरों को भी निहारा।

मांडू में रानी रूपमति के महल, जहाज महल, जामी मस्जिद, अशर्फी महल, इको पाइंट पर सबसे ज्यादा भीड़ रही। इन स्थानों पर दोपहर बाद भीड़ और बढ़ गई थी। पर्यटकों ने मांडू में पहुंचकर दाल-पानिए का भी आनंद लिया।वर्ष के अंतिम दिन पर्यटकों ने सूर्यास्त बिंदु पर पहुंचकर वर्ष 2015 को विदाई दी। इस अवसर पर कई पर्यटक भावुक भी नजर आए। देशी और विदेशी सैलानियों ने इस सुंदर नजारे को अपने कैमरे में भी कैद किया। प्रशासनिक स्तर पर भी सुरक्षा और व्यवस्था के इंतजाम किए गए थे।

जीवनभर याद रहेंगे ये पल
31 दिसंबर को जश्न मनाने और पर्यटन का आनंद लेने मांडू पहुंचे सैलानियों ने भी मांडू में बिताए इन पलों को यादगार बनाया। इंदौर के अखिलेश तापड़िया अपने परिवार के साथ नए साल का जश्न मनाने आए थे। उन्होंने कहा कि यहां की वादियां वाकई में सुकूनभरी हैं। ये हमारे जीवन के यादगार पल हैं।

 

Facebook Comments

You may also like

इस झील का बदल जाता है रंग, जानिए क्यों

जिन लोगों को घूमने फिरने का शौक होता