उत्तर प्रदेश की गोरखपुर व फूलपुर लोकसभा सीट पर बीजेपी की हार और सपा को जीत की ओर बढ़ता देख विपक्षी दलों ने हमला करना शुरू कर दिया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि उपचुनाव परिणामों से साफ है कि मतदाता भाजपा से कितना नाराज है. इसके चलते उसने गैर भाजपा उम्मीदवार को वोट किया. जबकि के पास जीत का सुनहरा मौका था. कहा कि आगे हम उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की मजबूती और उसके पुनर्निर्माण की दिशा में काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

लोकसभा सीटों के ताजा रुझानों से मिल रहे संकेतों के आधार पर जहां राजग की सहयोगी पार्टियां भाजपा को कठघरे में खड़ा कर रही हैं. वहीं, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी को विपक्षी नेताओं ने बधाइयां देनी शुरू कर दी है. राजग की सहयोगी शिवसेना के नेता संजय राउत ने भाजपा पर एक दिन पहले सपा नेता नरेश अग्रवाल को शामिल करने को लेकर हमला किया है. शिवसेना नेता संजय राउत ने यूपी उपचुनाव के रुझानों के मद्देनजर भाजपा पर तंज कसते हुए कहा , ‘मैं यह नहीं मानता कि सपा-बसपा गठबंधन ने काम किया…मैं मानता हूं कि प्रभु श्रीराम की सबसे ज्यादा निंदा करने वाले सपा के नेता के लिए आपने जिस दिन रेड कार्पेट डाला, उसी दिन प्रभु श्रीराम भी आपके खिलाफ हो गए.’ संजय राउत दरअसल इशारों ही इशारों में नरेश अग्रवाल का जिक्र कर रहे थे, जो पिछले ही दिनों सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं. वहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सपा नेता व यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती को यूपी के उपचुनाव के नतीजों की बधाई दी है. ममता बनर्जी ने ट्वीट करते हुए कहा है, ‘यह शानदार जीत है. यूपी के चुनाव नतीजों के लिए मायावतीजी और अखिलेश यादव जी को बधाई. यह अंत की शुरुआत है.’

अयोध्या मामले में SC ने खारिज की सभी याचिकाएं, अब 23 मार्च को होगी सुनवाई

उमर अब्दुल्ला और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी किया हमला

इससे पहले दिन की शुरुआत के साथ ही गोरखपुर और फूलपुर के उपचुनाव के शुरुआती रुझान आने के साथ ही विपक्षी नेता भारतीय जनता पार्टी के ऊपर हमलावर होने लगे. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट करते हुए कहा था कि उन्हें एक दिन पहले ही बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने यूपी के आश्चर्यजनक नतीजों के बारे में संकेत दिया था. वहीं, कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यूपी उपचुनावों में भाजपा की हार पर कहा था कि उपचुनावों का यह परिणाम किसान विरोधी, युवा विरोधी और महिला विरोधी सरकार के खिलाफ जनता की आवाज है. कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने भाजपा की हार को लेकर अमित शाह पर तंज कसते हुए कहा था, ‘अमित शाह सोच रहे होंगे कि वे उपचुनावों में भी ईवीएम को कैसे मैनेज नहीं कर पा रहे.’