आज लखनऊ में भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह, दलित सांसदों को मनाने की कोशिश

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आज (बुधवार को) दोपहर करीब 12 बजे लखनऊ पहुंचेंगे. शाह के इस दौरे के एजेंडे में दलित सांसदों के बगावती स्वरों से बने हालात से निपटने और कार्यकर्ताओं की नाराजगी को दूर करना शामिल है. इस दौरान वे संगठन और सरकार के लोगों से बातचीत करेंगे और सरकार के कामकाज की भी समीक्षा करेंगे. आपको बता दें कि इस बार अमित शाह प्रदेश के मंत्रियों के साथ सीएम हाउस में बैठक करेंगे. इस दौरान शाह सहयोगी दलों के नेताओं से भी मुलाकात करेंगे.

सरकार और संगठन में बदलाव की संभावना

शाह के इस दौरे को सरकार और संगठन में बदलाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है. ये संभावना जताई जा रही है कि 2019 के लोकसभा चुनाव को देखते हुए योगी सरकार के मंत्रिमंडल में भी फेरबदल हो सकता है. सूत्रों के मुताबिक, सपा-बसपा के गठबंधन को देखते हुए दलित और ओबीसी मंत्रियों की भागीदारी बढ़ाई जा सकती है.

सरकारी बंगले में होगी बैठक

जानकारी के मुताबिक, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह इस बार प्रदेश मंत्रियों के साथ बैठक बीजेपी ऑफिस में नहीं, बल्कि सीएम योगी आदित्यनाथ के सरकारी बंगले पर करेंगे. सूत्रों के मुताबिक, ये फैसला इसलिए लिए गया है ताकि बैठक की बातें बाहर लीक नहीं हो.

सहयोगी दलों और मंत्रियों से करेंगे मुलाकात

मंत्रियों के साथ बैठक के बाद अमित शाह पार्टी मुख्यालय जाएंगे. जहां वो पार्टी पदाधिकारियों और सहयोगी दलों के नेताओं से मिलेंगे. आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से बीजेपी के चार सांसदों ने अपनी ही सरकार के खिलाफ आवाज उठाई थी. जिसके बाद से दलितों के मुद्दे पर बीजेपी बैकफुट पर है.

बड़ी खबर: उन्नाव गैंगरेप- पीड़िता के साथ गांव पहुंची SIT, MLA से कर सकती है पूछताछ

विधान परिषद के नामों पर होगा मंथन

उत्तर प्रदेश की 13 विधान परिषद सीटों पर चुनाव की घोषणा हो चुकी है. 13 में से 11 सीटों पर बीजेपी की जीत तय है. बीजेपी ने अपने उम्मीदवार अभी तक घोषित नहीं किए हैं. ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि विधान परिषद के नामों को लेकर भी शाह पार्टी नेताओं के साथ मंथन कर सकते हैं.

 

सम्बंधित समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

1 घंटे के भीतर बिना बैंक गए आपको मिलेगा 1 करोड़ तक का लोन

अब सूक्ष्‍म, छोटी और मझोली कंपनियों (MSME) को एक घंटे