पाकिस्तान से आ रही हैं दिल्ली के लिए बड़ी आफत, सांस लेना हो जाएगा मुश्किल…

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली का वायु प्रदूषण भी तेजी से बढ़ रहा है। सर्दियों की दस्तक अभी हुई भी नहीं है और इसमें 18 फीसद का इजाफा हो गया है। जिस रफ्तार से पंजाब और पाकिस्तान के सीमावर्ती इलाकों में पराली जलाने की घटनाएं बढ़ रही हैं, उस हिसाब इसी सप्ताहांत में दिल्ली का एयर इंडेक्स भी मध्यम से खराब श्रेणी में पहुंचने की संभावनाएं प्रबल हो गई हैं। ऐसे में लोगों का सांस लेना तक दूभर हो जाएगा। 

सामने आ रहे प्रदूषण को लेकर चौंकाने वाले आंकड़े

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी), दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) औैर मौसम विभाग के दिल्ली में स्थापित करीब 35 वायु गुणवत्ता निगरानी संयंत्रों के माह भर के आंकड़ों का जो विश्लेषण सामने आया है, वह चौंकाने वाला है। इस विश्लेषण के मुताबिक सितंबर 2019 में पीएम 2.5 का औैसत स्तर 40 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर दर्ज किया गया था, जबकि सितंबर 2020 में यह 47 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर दर्ज हुआ है।

इसी तरह नासा की सैटेलाइट इमेज के अनुसार सितंबर 2019 के मुकाबले सितंबर 2020 में पंजाब में पराली जलाने की घटनाएं दोगुनी हो गई हैं। पाकिस्तान के सीमावर्ती इलाकों में भी पराली जलाने की काफी घटनाएं सैटेलाइट इमेज में सामने आ रही हैं। पर्यावरण विशेषज्ञों की मानें तो इस स्थिति के पीछे पराली जलाने की घटनाओं में इजाफा तो है ही, इस वर्ष सितंबर में 83 फीसद तक कम बारिश होना भी है। चिंता की बात यह भी है कि हवा की दिशा अब उत्तरी और उत्तर-पश्चिमी होने लगी है। इस हवा के साथ पराली का धुआं दिल्ली पहुंचने लगेगा। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि इसी सप्ताहांत में दिल्ली का एयर इंडेक्स 200 का आंकड़ा पार कर खराब श्रेणी में पहुंच सकता है।

प्रो. एसएन त्रिपाठी (विभागाध्यक्ष, सिविल इंजीनियरिंग विभाग, आइआइटी कानपुर) का कहना है कि  सितंबर में ही दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण का बढ़ना खतरे का संकेत है। 15 अक्टूबर के बाद जब हवा की दिशा पूर्णतया बदल जाएगी और पंजाब-हरियाणा में पराली भी ज्यादा जलने लगेगी तो स्थिति विकट हो जाएगी। कोरोना संक्रमण के बीच प्रदूषण का बढ़ना मृत्यु दर में इजाफे की वजह भी बन सकता है। इसलिए इसकी रोकथाम के लिए गंभीरता से प्रयास करने की जरूरत है।

दिल्ली के प्रदूषण में करीब 45 फीसद का योगदान पराली का रहा

दिल्ली सरकार में कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने कहा कि जाड़े के समय में प्रदूषण का स्तर बढ़ जाता है। जब हवा के अंदर ठंड और नमी बढ़ती है, उस समय पीएम-10 के और पीएम-2.5 के कण का घेरा दिल्ली के ऊपर बढ़ जाता है। इसके मुख्य तौर पर दो मुख्य कारण है। पहला, जो दिल्ली के अंदर धूल प्रदूषण, बायोमॉस बर्निंग, वाहनों के माध्यम से अलग-अलग तरह के कण उत्सर्जित होते हैं। दीपावली के समय पटाखे जलाने, अलग-अलग जगहों पर कूड़े जलाने से पैदा होता है। वहीं, प्रदूषण का दूसरा जो हिस्सा है, उसमें दिल्ली के लोगों की कोई भूमिका नहीं होती है। जैसे पराली का जलना। पिछले साल दिल्ली में पराली जलने की घटना लगभग शून्य रही। वहीं पंजाब और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में काफऊी पराली जलाई जाती है। पिछली बार दिल्ली के प्रदूषण में करीब 45 फीसद का योगदान पराली का रहा है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button