बाइडेन देंगे 1 करोड़ 10 लाख लोगों को बड़ा तोहफा भारतीय भी हैं शामिल…

अमेरिका के नए राष्ट्रपति का पद संभालने जा रहे जो बाइडेन अप्रवासियों के मुद्दे पर व्यापक कदम उठाने जा रहे हैं. रिपोर्ट के अनुसार बाइडेन पहले कार्यकाल के पहले ही दिन आव्रजन विधेयक  को मंजूरी दे सकते हैं. ये एक ऐसा कदम है जिससे अमेरिका में बिना कानूनी मान्यता के रह रहे 1 करोड़ 10 लाख लोगों को वहां की नागरिकता मिलने का रास्ता साफ हो जाएगा. इस 1 करोड़ 10 लाख लोगों में बड़ी संख्या में भारतीय भी हैं.

जो बाइडेन की ये नीति डोनाल्ड ट्रंप की अप्रवासी नीति से एकदम अलग है. ट्रंप ने अपने चार साल के कार्यकाल में न सिर्फ रोजगार और चमकते भविष्य की तलाश में अमेरिका आने वाले लोगों को रोका बल्कि बड़े पैमाने पर अवैध रूप से यूएस में घुस आगे लोगों को डिपोर्ट भी करवा दिया. 

लेकिन जो बाइडेन एकदम विपरित नीति पर चल रहे हैं. राष्ट्रपति चुनाव के प्रचार के दौरान ही बाइडेन ने अमेरिका के दरवाजे प्रतिभाशाली लोगों के लिए खोलने का वादा किया था. बाइडेन के इस कदम से लैटिन अमेरिकी देशों, भारतीय, चीनियों को फायदा होगा.

क्या है नई अप्रवास नीति

एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार नई अप्रवास नीति को लागू करने के लिए जो बाइडेन ने 1 जनवरी 2021 को बेंचमार्क बनाया है. यानी कि इस तारीख तक जो लोग अमेरिका में बिना कानूनी मान्यता के रह रहे थे उन्हें वहां की नागरिकता देने पर विचार किया जाएगा. इस बाबत जो बाइडेन अपने कार्यकाल के पहले ही दिन बिल पर हस्ताक्षर कर सकते हैं. 

8 साल की लंबी प्रक्रिया

नागरिकता पाने की प्रक्रिया 8 साल तक चलेगी. इस दौरान अमेरिका में इन लोगों के व्यवहार, कानून के प्रति सम्मान को जांचा परखा जाएगा. सबसे पहले इन्हें 5 साल तक के लिए ग्रीन कार्ड दिया जाएगा, इस दौरान उनका बैकग्राउंड चेक किया जाएगा, देखा जाएगा कि क्या ये टैक्स भर रहे हैं, और दूसरी बुनियादी जरूरतें पूरी कर रहे हैं.  इस जांच के बाद इन्हें दूसरे फेज में ट्रांसफर किया जाएगा जो कि तीन साल का होगा. इस चरण को ‘न्यूट्रलाइजेशन’ का नाम दिया गया है. इस फेज में नागरिकता के इच्छुक लोगों की अमेरिकी नागरिकता पक्की की जाएगी. 

ड्रीमर्स के लिए जल्दी संभावनाएं

बाइडेन के इस प्लान में अमेरिकी जिंदगी के सपने संजोने वाले लोगों के लिए खास स्थान है. ड्रीमर्स वे हैं जो अपने माता-पिता के साथ नाबालिग रूप में अमेरिका बिना कागजात के घुसे हैं. इस कैटेगरी में युवा, बच्चे, किसान, आते हैं. अगर ये किसी काम में हैं, स्कूल जाते हैं और दूसरी शर्तें पूरी करते हैं तो इन्हें ग्रीन कार्ड जल्दी मिल पाएगी और अमेरिका में इनकी नागरिकता भी जल्द पक्की हो सकेगी.    

5 लाख भारतीय अमेरिकी नागरिकता के इंतजार में

बता दें कि 2019 तक अमेरिका में भारतीयों की संख्या 27 लाख थी. अमेरिका में भारतीयों की आबादी वहां की कुल आबादी का 6 प्रतिशत है. इनमें से लाखों भारतीय ऐसे हैं जो वहां कानूनी रूप से नहीं रह हैं और उन्हें अमेरिका की नागरिकता की जरूरत है. एक अनुमान के अनुसार ऐसे 5 लाख भारतीय हैं जिन्हें जो बाइडेन के नए अप्रवासी बिल से वहां की नागरिकता पाने का मौका मिल सकेगा.  

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button