Home > ज़रा-हटके > इस वजह से, इस भूमि को आज भी कहते है ‘महिला के स्तन की भूमि’

इस वजह से, इस भूमि को आज भी कहते है ‘महिला के स्तन की भूमि’

इस दुनिया में कई अजीब परम्पराएं है। मुंबई में आज महिलाओं के लिए स्वाभिमान की लड़ाई लड़ने वाली केरल की उस महिला को याद किया जिसने स्तनों को ढंकने के विरोध में अपनी जान दे दी थी। इस महिला ने केरल में सैकड़ों वर्ष पहले लगाए जाने वाले स्तन कर के खिलाफ आवाज उठाते हुए अपनी जान ही कुर्बान कर दी थी। इस महिला को नांगेली के नाम से जाना जाता था।
महिलाओं से लिया जाता था कर:
एक समय पर केवल में सार्वजनिक तौर पर अपने स्तनों को ढक कर रखने की इच्छा रखने वाली महिलाओं से मुलक्करम या स्तन कर वसूला जाता था। तब लोगों ने ऐसे कानून बनाए थे जो बर्बर और अमानवीय थे लेकिन उनका विरोध करने वाला कोई नहीं था। ऐसे में नांगेली ने अपना बलिदान देकर महिलाओं के सम्मान की रक्षा के लिए आगे आई।
काट डाले थे अपने स्तन:
नांगेली का स्थानीय भाषा में मतलब होता है, ‘खूबसूरत।’ तकरीबन 30 के आस-पास की उम्र की नांगेली समाज के ‘निचले’ माने जाने वाले तबके से आती थी। जब स्थानीय कर अधिकारी (या परवथियार) बकाया ब्रेस्ट टैक्स वसूलने के लिए बार-बार नांगेली के घर आ रहा था तो उसने परवथियार को शांति से इंतजार करने के लिए कहा। नांगेली ने फिर केले का पत्ता सामने फर्श पर रखा, प्रार्थना की, दीप जलाया और फिर अपने दोनों स्तन काट डाले।

ये है बिना छत और बिना दीवार वाला होटल, कीमत सुन खिसक जाएगी पैरों तले जमीन

‘महिला के स्तन की भूमि’:
चेरथला में नांगेली ने जिस जगह पर यह बलिदान दिया था, उसे मुलाचिपा राम्बु कहते हैं। मलयालम में इसका मतलब ‘महिला के स्तन की भूमि’ होता है। हालांकि स्थानीय लोग यह नाम लेने से हिचकते हैं। आजकल ज्यादातर लोग इसे ‘मनोरमा कवला’ कहते हैं। कवला का मतलब होता है जंक्शन। नांगेली के बलिदान के बाद ब्रेस्ट टैक्स का बर्बर कानून हटा लिया गया।
Loading...

Check Also

बारूद लगाकर किया जंगली सुअर का शिकार, और फिर हुआ कुछ ऐसा जिसने भी सुना उसकी तो लग गई…

छत्तीसगढ़ के धमतरी में ताबीज और जड़ी-बूटी बेचने वाले देवारों ने अपने काम के लिए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com