पीएम मोदी के लिए बुरी खबर, इस करीबी की मौत से सदमे में आया पूरा देश

हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में काफी कुछ तो आपने भी पढ़ा और सुना होगा। ये तो हम सब जानते ही हैं, कि किस तरह देश की सेवा के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने सारे रिश्ते- नाते त्याग दिए। देश के अब तक के प्रधानमंत्रियों से कई दिशाओं में अलग सोच रखने वाले हमारे पीएम नरेंद्र मोदी का अपने परिवार से जुड़ाव तो काफी है, लेकिन उन्होंने हमेशा ही अपने परिवार को राजनीति की चमक- धमक से दूर ही रखा है। साथ ही पीएम मोदी खुद कहते भी हैं कि उनके लिए उनके अपने परिवार से ज्यादा अहमियत रखता है उनका देश। देश के सवा सौ करोड़ लोग ही उनका परिवार हैं, कुछ ऐसी ही सोच रखते हैं हमारे पीएम नरेंद्र मोदी।

पीएम मोदी के लिए बुरी खबर, इस करीबी की मौत से सदमे में आया पूरा देशप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए आज का दिन एक दुखभरी खबर लेकर आया। 104 की उम्र में पीएम नरेंद्र मोदी की बहन शरबती देवी ने उन्हें हमेशा के लिए अलविदा कह दिया। हालांकि शरबती देवी पीएम नरेंद्र मोदी की अपनी नहीं बल्कि मुंहबोली बहन थी। झारखंड के धनबाद में रहने वाली 104 साल की शरबती देवी काफी दिनों से बीमार चल रही थी। जिसके बाद सुबह 5 बजे उनका निधन हो गया। शरबती देवी के सगे भाई का निधन 50 साल पहले ही हो गया था, जिसके बाद से हर साल रक्षाबंधन का दिन शरबती देवी को बहुत खलता था। ऐसे में उनके बेटे ने एक बार पीएम नरेंद्र मोदी को लेटर लिखा और पीएम मोदी से रिक्वेस्ट की, कि उनकी मां उन्हें राखी बांधना चाहती हैं। जिसके बाद प्रधानमंत्री ने बुजुर्ग महिला के इच्छा का सम्मान करते हुए उन्हें बुलाया था। जिसके बाद शरबती देवी ने 7 अगस्त 2017 को 7 आरसीआर पीएम आवास का दौरा किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राखी बांधी थी। सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री के इस कदम की सराहना की गयी थी।

दिवंगत शरबती देवी का दाह संस्कार रविवार 11 मार्च को बस्ताकोला स्थित गोशाला में किया जाएगा। शरबती देवी ने धनबाद के बैंक मोड़ के होटल वीआइपी स्थित आवास पर अंतिम सांस ली। आपको बता दें कि शरबती देवी के पुत्रों की धनबाद में अच्छी व्यापारिक प्रतिष्ठा है। वे धनबाद में होटल वीआइपी रिजेन्सी एवं हिन्दुस्तान पेन्ट्स नामक दो फर्म चलाते हैं। स्वर्गीय धनराज अग्रवाल की पत्नी सरबती देवी की कुल नौ संताने थीं, जिनमें दो हरिकिशन अग्रवाल एवं विमला देवी का निधन हो गया है। शरबती अपने पीछे चार पुत्र रामावतार अग्रवाल, राजेन्द्र अग्रवाल, मोहन अग्रवाल एवं महेन्द्र अग्रवाल और तीन पुत्री लक्ष्मी देवी, रामकली, शारदा देवी को छोड़ गयी हैं। शरबती देवी के बड़े पुत्र हरकिशन मजारिया और छोटे पुत्र महेंद्र माजारिया दिल्ली में रहते हैं। दूसरे बेटे रामाअवतार मजारिया कोलकाता में रहते हैं। मजारिया परिवार का होटल, पैंट और ऑटो पार्ट्स का कारोबार है। शरबती देवी की मौत की खबर सुनकर बीजेपी के दूसरे नेता भी काफी दुखी हैं।

शरबती देवी के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक और पाकिस्तानी मुंहबोली बहन भी हैं। पाकिस्तानी कमर मोहसीन शेख पिछले 23 सालों से नरेंद्र मोदी को राखी बांध रही हैं। वैसे तो मोहसीन पाकिस्तानी हैं, लेकिन 35 साल पहले वो भारत आकर बस गई थीं।

You may also like

ऐसे भारत से भागा था विजय माल्या: CBI ने किया खुलासा..

  सूत्रों ने कहा कि पहले सर्कुलर में