ऑस्ट्रेलियाई के इस खिलाडी का बड़ा बयान, सिडनी को भूल जाओ भारत को गाबा में हराएंगे

ऑस्ट्रेलिया के शीर्ष बल्लेबाज मार्नस लाबुशेन का मानना है कि भारत ने सिडनी टेस्ट के चौथे दिन जिस तरह टिककर बल्लेबाजी की उस स्थिति में उनके खिलाड़ी अधिक कुछ नहीं बदल सकते थे. मार्नस लाबुशेन ने हालांकि कहा कि मेजबान टीम ब्रिसबेन में भारत को हराकर सीरीज जीतने के लिए बेताब है. भारतीय बल्लेबाजों ने 407 रन के विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए शानदार बल्लेबाजी की बदौलत सिडनी टेस्ट ड्रॉ कराया.

सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर 91 और 73 रनों की पारियां खेलने वाले लाबुशेन ने ‘क्रिकेट.कॉम.एयू’ से कहा, ‘हमने आज (ड्रॉ) टेस्ट मैच खेला, लेकिन यह टेस्ट सीरीज है और हम यहां जीतने के लिए हैं.’ लाबुशेन ने कहा, ‘इस मैच का नतीजा चाहे कुछ भी रहे, अगर हम जीत दर्ज करते या यह ड्रॉ था, हमें गाबा में जाना है और जीतना है. इसलिए हमारे लिए कुछ नहीं बदला है, यह बस अपना फोकस बदलने का मामला है और सुनिश्चित करना कि गाबा में हम उन्हें हराएं.’

हनुमा विहारी (161 गेंद में नाबाद 23) और रविचंद्रन अश्विन (128 गेंद में नाबाद 39) ने पांचवें दिन पूरे तीसरे सेशन में बल्लेबाजी की, जबकि ऋषभ पंत (118 गेंद में 97 रन) और चेतेश्वर पुजारा (205 गेंद में 77 रन) ने 148 रन जोड़े जिससे भारत ने 131 ओवर में पांच विकेट पर 334 रन बनाए.

लाबुशेन ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया को पांचवें दिन की पिच से थोड़ी अधिक मदद की उम्मीद थी, लेकिन उन्होंने क्रीज पर डटे रहकर मैच ड्रॉ कराने का श्रेय भारतीय बल्लेबाजों को दिया. लाबुशेन ने कहा, ‘सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर पांचवें दिन की पिच पर आम तौर पर अधिक टूट-फूट होती है, थोड़ा अधिक असमान उछाल होता है, लेकिन अगर कोई टीम 131 ओवर खेल जाए तो उन्हें श्रेय जाता है.’

लाबुशेन ने कहा, ‘उन्होंने अच्छी बल्लेबाजी की, वे डटे रहे और मुझे लगता है कि इसमें हम अधिक कुछ नहीं बदल सकते थे.’ पैट कमिंस (26-6-72-1), जोश हेजलवुड (26-12-39-2) और मिशेल स्टार्क (22-6-66-0) की ऑस्ट्रेलिया की तेज गेंदबाजी तिकड़ी के अलावा स्पिनर नाथन लियोन (46-17-114-2) ने अपने तरकश के सभी तीरों को आजमाया, लेकिन भारत के बल्लेबाजों को नहीं डिगा पाए.

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button