अलीगढ़ में मरने के बाद जिंदा हुआ ग्रामीण, बोला-यमराज से हो गई थी गलती

- in राष्ट्रीय

कहते हैं कि मौत से बड़ा कोई सच नहींं है, जो एक बार यह दुनिया छोड़कर चला जाए, फि‍र वह कभी लौटकर नहीं आता. लेकिन हाल ही में एक व्यक्ति ने मौत के इस सच को भी गलत साबित कर दिखाया है. यह कर दिखाया है उत्‍तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में रहने वालेे ग्रामीण ने. यहां एक व्‍यक्ति की मौत के बाद अंतिम संस्‍कार करने की तैयारियां चल रहीं थी कि तभी वह जिंदा हो उठा. जिंदा होने के बाद उसने अपने रोते-बिलखते परिवार वालों से कहा कि ऊपर वाला उसे गलती से उठा ले गया था, इसलिए वापस भेज दिया. ग्रामीण की मौत के बाद जिंदा होने की घटना पर उसे देखने और मिलने वालों का तांता लगा हुआ है. साथ ही रोते-बिलखते घरवालों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं है.

जनधन के खाते 31.45 करोड़, जमा राशि 80 हजार करोड़ पार

जानकारी के मुताबिक, अलीगढ़ जिले के अतरौली थाना क्षेत्र में एक किरथल गांव है. गांव में रहने वाले 53 वर्षीय रामकिशोर का चंद रोज पहले निधन हो गया. उनकी मौत से परिवार ही नहीं गांव के लोगों का भी रो-रोकर बुरा हाल था. मौत की सूचना पर उनके सगे-संबंधी और नजदीकी रिश्तेदार भी गांव पहुंच गए. नाते रिश्तेदारों को गांव पहुंचते देख परिवार व ग्रामीणों ने अंतिम संस्कार की तैयारी करनी शुरू कर दी. इस दौरान जब शव को नहलाने ले जाया जाने लगा तो मरने वाले ग्रामीण के शरीर में कुछ हलचल हुई. इस पर वहां मौजूद लोगों में हड़कंप मच गया. इसके बाद रामकिशोर की आंखे खुल गईं और उसने परिवार वालों को नाम लेकर पुकारना शुरू कर दिया. साथ ही उन्‍होंने घरवालों को बताया कि वे लोग उनकी चिंता न करें, ऊपरवाले उन्‍हें गलती से उठाकर ले गए थे. उन्‍होंने बताया कि अभी उनका जाने का समय नहीं हुआ था, इसलिए उन्‍हें वापस भेज दिया. इतना सुनते ही परिवार के साथ गांव वालों की खुशी की कोई ठिकाना नहीं रहा. उधर, रामकिशोर के दोबारा से जिंदा होने की सूचना मिलते ही गांव ही नहीं आस-पास के लोग भी उनसे मुलाकात करने पहुंचे.

 
 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जवानों की हत्या को लेकर केजरीवाल ने PM मोदी से मांगा जवाब

बीएसएफ जवान नरेंद्र सिंह की शहादत के बाद