भारत-दक्षिण कोरिया के बीच व्यापार व वाणिज्य समझौतों पर हुआ करार

- in राष्ट्रीय

नई दिल्‍ली। केंदीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु और दक्षिण कोरियाई व्यापार मंत्री किम ह्यून-चोंग ने सोमवार को व्यापार और वाणिज्य पर समझौतों पर हस्ताक्षर किए। दाेनों नेताओं के बीच सौहार्द पूर्ण वातावरण में वार्ता हुई।भारत-दक्षिण कोरिया के बीच व्यापार व वाणिज्य समझौतों पर हुआ करार

इससे पहले, दोनों मंत्रियों ने नाश्ते के साथ अपनी बैठक शुरू की। इसके बाद समझौते पर चर्चा हुई और हस्ताक्षर किए गए। इस बीच, ह्यून-चोंग ने नोएडा में सैमसंग संयंत्र पर प्रकाश डाला और कहा कि यह साइट आगामी वर्षों में लगभग 10 मिलियन यूनिट मोबाइल फोन का उत्पादन करेगी।

उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘मेक इन इंडिया’ नीति के तहत पहला कदम आज लिया गया। दोनों नेता (दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति और प्रधान मंत्री मोदी) सैमसंग की विनिर्माण साइट पर जाएंगे, जो प्रति माह 10 मिलियन यूनिट मोबाइल फोन का उत्पादन करेगा 2020।

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज बाद में उत्तर प्रदेश के नोएडा में एक सैमसंग संयंत्र की यात्रा करेंगे। इस बीच, प्रधानमंत्री मोदी, बाद में हैदराबाद हाउस में दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति के साथ आधिकारिक वार्ता करेंगे। 

इसके पूर्व दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन आज अपने पहले भारत दौरे पर नई दिल्ली पहुंचें। राष्ट्रपति के साथ कैबिनेट के वरिष्ठ सदस्य, अधिकारी और कई उद्योगपति भी साथ हैं। राष्ट्रपति के साथ उनकी पत्नी किम जोंग-सुक भी भारत दौरे पर हैं। सोमवार को मून भारत-कोरिया बिजनेस फोरम की बैठक के बाद प्रधानमंत्री मोदी के साथ गांधी स्मृति जाएंगे। दोनों नेताओं का उसके बाद नोएड़ा के सैमसंग प्लांट में जाने का भी कार्यक्रम है।

राष्ट्रपति मून जे इन का 10 जुलाई को राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत किया जाएगा। हैदराबाद हाउस में लंच के बाद कोरियाई राष्ट्रपति के साथ प्रधानमंत्री की उच्चस्तरीय बैठक होगी। दोनों नेता भारत-कोरिया के उद्योगपतियों के साथ भी बैठक करेंगे जिसके बाद कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। 11 जुलाई को मून की भारत यात्रा समाप्त होगी।

राष्ट्रपति मून जे इन सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के उपाध्यक्ष ली जे-योंग के अलावा अपने साथ करीब 100 उद्योगपतियों का काफिला है। सैमसंग ने भारत के अपने नोएडा प्लांट में करीब 713 मिलियन डॉलर का निवेश किया है, जिसमें स्मार्टफोन, रैफ्रिजरेटर आदि का प्रोडक्शन किया जाएगा। दक्षिण कोरिया भारत के साथ रक्षा सौदें करने का भी इच्छुक हैं, जिसमें हनवा डिफेंस सिस्टम्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ली सुंग-सोओ मुख्य भूमिका निभाना चाहते है। अमेरिका और चीन के बीच जारी व्यापार युद्ध के कारण दक्षिण कोरिया चिंतित है।

कोरियाई अंतरराष्‍ट्रीय व्यापार संघ के अनुसार इस साल पहले पांच महीनों में चीन में दक्षिण कोरिया का निर्यात सबसे ज्यादा रहा जो करीब 25.6 फीसद था। दूसरे नंबर पर अमेरिका में उसका निर्यात 11.4 फीसद रहा। वर्ष 2017 में दक्षिण कोरिया ने रक्षा मिसाइल प्रणाली को स्थापित किया था, जिसके बाद चीन का रुख कोरियाई व्यापार के विरुद्ध हो गया जिस कारण कोरियाई कंपनियों को चीन में कई कठिनाईयों का सामना करना पड़ा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

ऐसे तांत्रिक बाबा महिलाओं को फंसाते हैं अपने जाल में…

मध्यप्रदेश के इंदौर का मामला है जहां एक तांत्रिक पकड़ा