कोर्ट के फैसले के बाद राम मंदिर का निर्माण शुरू होगा: RSS के महासचिव भैयाजी जोशी

- in राष्ट्रीय

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) महासचिव भैयाजी जोशी ने कहा कि राम मंदिर बनना तय है, वहां दूसरा कुछ बन नहीं सकता लेकिन प्रक्रिया से जाना पड़ेगा. न्यायालय के निर्णय के बाद मंदिर निर्माण शुरू होगा. राम मंदिर पर आम सहमति बनना आसान नहीं जो पर जो प्रयास हो रहे हैं उसका हम स्वागत करते हैं. आपको बता दें कि शनिवार को आरएसएस के देशभर के पदाधिकारियों ने सुरेश भैयाजी जोशी को तीन साल के कार्यकाल के लिए पुन: निर्वाचित किया था. यह उनका चौथा कार्यकाल है.

वर्ष 2009 से आरएसएस का महासचिव पद संभाल रहे जोशी 2021 तक इस पद पर बने रहेंगे. वह एच वी शेषाद्रि के बाद इतने लंबे कार्यकाल के लिए आरएसएस के सरकार्यवाह(महासचिव) रहने वाले दूसरे व्यक्ति हैं. शेषाद्रि 1987 से 2000 तक इस पद पर रहे थे. संघ के महासचिव इसके कार्यकारी प्रमुख होते हैं जो संगठन के रोजाना के कार्यों की देखरेख करते हैं.

आरएसएस के प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने शनिवार को बताया था कि सह कार्यवाह (महासचिव) का चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ और सुरेश भैयाजी जोशी को एक और कार्यकाल के लिए पुन: निर्वाचित किया गया है. वह यहां संघ की तीन साल में एक बार होने वाली बैठक‘‘ प्रतिनिधि सभा’’ से इतर बोल रहे थे.

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद पांच दिवसीय दौरे पर मॉरीशस रवाना

जोशी के पुन: निर्वाचन से इन अटकलों पर विराम लग गया कि संयुक्त महासचिव दत्तात्रेय होसबोले संघ के महासचिव का पद संभाल सकते हैं. चुनाव प्रक्रिया की जानकारी देते हुए वैद्य ने कहा कि मध्य भारत के लिए आरएसएस के प्रमुख अशोक सोनी चुनाव अधिकारी थे और उन्होंने चुनाव प्रक्रिया शुरू की.

उन्होंने कहा कि पश्चिमी क्षेत्र के लिए संघ के प्रमुख जयंत भदेसिया ने जोशी के कार्यकाल में आरएसएस की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए पुन: निर्वाचन के लिए उनके नाम का प्रस्ताव रखा। इसका उत्तर प्रदेश से संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी वीरेंद्र पराक्रमादित्य तथा कुछ अन्य ने समर्थन किया.

सूत्रों के अनुसार, संघ ने इस महत्वपूर्ण समय जब वह सभी दिशाओं में खुद का विस्तार कर रहा है, बदलाव की जगह निरंतरता को तरजीह दी. जोशी के अलावा कर्नाटक, आंध्र और तेलंगाना राज्यों वाले दक्षिण मध्य क्षेत्र के क्षेत्रीय संघचालक वी नागराज को भी सर्वसम्मति से पुन: चुना गया. यह उनका दूसरा कार्यकाल है.

You may also like

लापता जवान की निर्ममता से हत्या, शव के साथ बर्बरता, आॅख भी निकाली

दो दिन पहले बार्डर की सफाई दौरान पाकिस्तानी