जम्मू कश्मीर: मुठभेड़ में एक जवान शहीद, आतंकियों के दो प्रमुख सहयोगियों को किया गिरफ्तार

- in कश्मीर, राष्ट्रीय
जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर बटमालू क्षेत्र में रविवार तड़के आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई है। इस मुठभेड़ में एसओजी का एक जवान शहीद हो गया है वहीं तीन गंभीर रूप से घायल भी हो गए हैं।मुठभेड़ में एक जवान शहीद, आतंकियों के दो प्रमुख सहयोगियों को किया गिरफ्तार

आईजी कश्मीर एसपी पानी ने अमर उजाला को बताया कि, आतंकियों के दो प्रमुख सहयोगियों (ओजीडब्ल्यू) को गिरफ्तार कर लिया गया है। जहां आतंकी छिपे थे उस जगह को भी काफी नुकसान पहुंचा है। उस क्षेत्र में मिले खून के धब्बे से पता चलता है कि आतंकी वहां मौजूद थे और घायल होने के बाद वहां से फरार हो गए हैं। मौके से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किए गए हैं। आतंकियों के दो मददगारों से पूछताछ की जा रही है। सर्च ऑपरेशन अब भी जारी है। 

सूत्रों की माने तो इनका मकसद स्वतंत्रता दिवस पर हमले का था। इसकी खबर सुरक्षाबलों को लगते ही उन्होंने पूरे इलाके की नाकाबंदी कर सर्च ऑपरेशन शनिवार देर रात से ही शुरू कर दिया था। 

जम्मू-कश्मीर डीजीपी एसपी वैद ने बताया कि बटमालू क्षेत्र में चल रहे एनकाउंटर में एसओजी का एक जवान शहीद हो गया है। वहीं मुठभेड़ में अभी सीआरपीएफ के दो और जम्मू कश्मीर पुलिस का एक जवान गंभीर रूप से घायल है। मौके पर सेना सहित सीआरपीएफ और जम्मू कश्मीर पुलिस के जवान आतंकियों की फायरिंग का करार जवाब दे रहे हैं।

आतंकियों का था स्वतंत्रता दिवस पर हमले का प्लान 
सूत्रों के मुताबिक आतंकी जिस इलाके में छिपे हैं वहां से परेड ग्राउंड मात्र तीन किलोमीटर ही है। ऐसे में वह कई दिनों से यहां रेकी कर रहे थे। जिसकी भनक सुरक्षा एजेंसीज को लगते ही सुरक्षाबल शनिवार रात से ही इलाके की नाकाबंदी करने में जुट गए थे। रविवार तकड़े इलाके की नाकाबंदी देख घरों में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग करना शुरू कर दिया। गोलीबारी और जवाबी कार्रवाई में पुलिस के तीन जवान घायल भी हो गए हैं। वहीं एक एसओजी के जवान के शहीद होने की भी सूचना है। आतंकियों से अभी मुठभेड़ जारी है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पीएम मोदी और श्रीलंका के प्रधानमंत्री रनिल विक्रमसिंघे के बीच हुई मुलाकात

पीएम नरेन्द्र मोदी और उनके श्रीलंकाई समकक्ष रनिल