US का एक ऐसा गांव जो बहुत ज्यादा है पिछड़ा, जानिए इसके बारे में….

वाशिंगटन: अमेरिका देश की बात आते ही हर किसी के दिमाग में ऊंची-ऊंची इमारतें, गाड़ियों, फैशनेबल लोगों की तस्वीर दिखाई देने लगाती है। मगर क्या आप जानते हैं कि अमेरिका में एक ऐसा गांव है जो बहुत ही ज्यादा पिछड़ा है।  जिसके साथ ही हैरानी की बात सामने आई कि यह गांव जमीन के ऊपर नहीं बल्कि 3,000 फीट गहराई में बसा हुआ है।

कैनियन के पास एक गहरी खाई में बसा सुपाई गांव: अमेरिका में ग्रैंड कैनियन नामक घाटी बहुत पॉपुलर है। यहां घूमने के लिए हर साल तकरीबन  55 लाख लोग खासतौर एरिजोना घूमने आते है। इसी के पास हवासू कैनियन के पास एक गहरी खाई में एक गांव स्थित है। गांव का नाम सुपाई है मगर गहराई में होने पर यह अंडरग्राउंड विलेज के नाम से भी  बहुत ही प्रसिद्ध है। तकरीबन 208 लोगों के इस गांव में अमेरिका के मूल निवासी रेड इंडियन निवास करते थे। बता दें, आज के आधुनिक युग में भी यह गांव पूरी तरह से पिछड़ा हुआ है।
 
बाहरी जिंदगी से कटे हुए गांव के निवासी: हम बता दें कि गांव के लोग बहुत ही पिछड़े हुए हैं। ऐसे में ये लोग एक अलग विश्व में ही रहते हैं। गांव वालों की अपने अलग रीति-रिवाज भी देखने को मिले है। इस गांव में घूमने के लिए किसी भी तरह की कोई गाड़ी चलती है। गांव पर पहुंचने या घूमने के लिए पैदल या खच्चर पर बैठकर घूमना पड़ता था।  जिसके साथ ही यहां पर 1-2 हवाई जहाज आते हैं जो इस गांव को पास के हाइवे से जोड़ने का  कार्य करते हैं। असल में, शहर से गांव को जोड़ने के लिए कोई भी पक्का रास्ता नहीं है। शहर जाने के लिए घोड़े, खच्चर या हवाई जहाज की मदद ली जाती है। भले ही गांव शहरी सुख-सुविधा से दूर है। मगर यहां पर पोस्ट ऑफिस, कैफे, 2 चर्च, लॉज, प्राइमरी स्कूल और किराने की दुकानें हैं। गांव के लोग हवासुपाई भाषा का इस्तेमाल करते है। साथ ही वे सेम की फली और मकई की खेती करते हैं। लोग रोजगार के लिए लच्छेदार टोकरियां बुनकर शहरों में बेचने के लिए जाते है।

चिट्ठियां पहुंचाने में भी लगता समय:  जहां इस बात का पता चला है कि सुपाई गांव इतना पिछड़ा हुआ है कि लेटर्स यानि चिट्ठियां पहुंचाने में भी बहुत ही वक़्त  लग जाता है। दरअसल यह कार्य भी खच्चरों या घोड़े पर बैठकर जाना पड़ता है। गांव में फोन, ईमेल, फैक्स किसी चीज की सुविधा नहीं है। अमेरिका जैसे देश में ऐसा पिछड़ा गांव होना बहुत हैरान करने वाली बात है। जिसके अतिरिक्त गांव पर जाने के लिए झाड़ियों के बीचे से निकलना पड़ता है। जिसके मध्य भूल-भुलैया जैसी कई खाड़ी भी है।

गांव जाने के लिए इजाजत लेना जरूरी: प्रत्येक वर्ष हजारों लोग गांव देखने जाते हैं। मगर इस गांव की खासियत हैं कि यहां जाने से पहले हवासुपाई की ट्राइबल काउंसिल से इजाजत  लेना होता है। जिसके अतिरिक्त गांव में भी आप उनके नियमों को मानकर ही रह सकते हैं।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 − 6 =

Back to top button