84 के इंसाफ के लिए ‘आप’ की नेतागीरी छोड़ी

HS-Phoolka-300x245नई दिल्‍ली। अपनी मजबूरियों का हवाला देते हुए आम आदमी पार्टी के नेता और वरिष्‍ठ वकील एचएस फूलका ने ‘आप’ के सभी पदों से इस्तीफ़ा देने का ऐलान किया है। फूलका ने पार्टी से कह दिया है कि वो 1984 दंगा पीड़ितों के लिए काम करने जा रहे हैं। ऐसे में पार्टी के लिए मुकम्‍मल मेहनत नहीं कर सकेंगे।

इसलिए छोड़ी ‘आप’
फूलका ने कहा कि 84 दंगा मामला निर्णायक मोड़ पर है। अब मुझे इसके लिए पूरा वक्‍त देना पड़ेगा। ‘आप’ भी मुझे सभी पदों से मुक्‍त करने को तैयार है। उन्‍होंने पंजाब चुनाव में पार्टी को बड़ी सफलता मिलने की उम्‍मीद जताई है।

kejriwal_new_325_120414084553

क्‍यों छोड़ा था सिख विरोधी दंगे का केस

पंजाब के भादौर गांव में जन्मे हरविंदर सिंह फूलका दिल्ली में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए सिख विरोधी दंगों से काफ़ी विचलित हुए थे। उन्होंने दंगा पीड़ितों को न्याय दिलवाना अपना मिशन बना लिया था। उच्चतम न्यायालय में वरिष्ठ वकील फूलका ने अपने खिलाफ ‘व्यक्तिगत लाभ’ उठाने का आरोप लगने के बाद इस मामले से खुद को अलग रखने का फैसला किया था।

 

 

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button