55 प्रतिशत शादीशुदा भारतीय अपने जीवनसाथी को देते हैं धोखा महिलाएं पुरुषों से आगे.. हुआ सर्वे

लगभग 55 प्रतिशत शादीशुदा भारतीय अपने जीवनसाथी के साथ कम से कम एक बार धोखा जरूर करते हैं। यह खुलासा भारत की पहली एक्ट्रामैरिटल डेटिंग एप ग्लीडेन में हुआ है। जिसके अनुसार धोखा देने के मामले में महिलाएं पुरुषों से आगे हैं। 56 प्रतिशत महिलाओं ने अपने साथी को धोखा देने की बात स्वीकारी है।

48 प्रतिशत भारतीयों का मानना है कि एक ही समय में दो लोगों के साथ प्रेम संबंध में होना संभव है। वहीं 46 प्रतिशत का मानना है कि आप जिसके साथ प्यार में हैं उसके साथ धोखा कर सकते हैं। शायद यही वजह है कि भारतीयों को जब अपने साथी के किसी और के साथ संबंध में होने की जानकारी मिलती है वह उसे आसानी से माफ कर देते हैं।

सात प्रतिशत भारतीय बिना कुछ सोचे-समझे अपने साथी को माफ कर देते हैं। वहीं 40 प्रतिशत भारतीय हालात सामान्य होने पर साथी को माफी दे देते हैं। इसी तरह 69 प्रतिशत चाहते हैं कि उनका साथी उन्हें माफ कर दे। यह शोध 25 से 50 साल के 1,525 व्यक्तियों पर किया गया है। जो दिल्ली, मुंबई, बंगलूरू, चेन्नई, हैदराबाद, पुणे, कोलकाता और अहमदाबाद में रहते हैं।

ग्लीडेन अप्रैल 2017 में भारत आया। पिछले साल तक देश में उसके सब्सक्राइबर्स की  संख्या आठ लाख हो चुकी थी। 2018 में उच्चतम न्यायालय के व्यभिचार को अपराध की श्रेणी से हटाने के बाद एप की मेंबरशिप में इजाफा हुआ है। सर्वे का कहना है कि भारत में प्रति 1,000 दंपत्तियों में से 13 का ही तलाक होता है।

सर्वे के अनुसार भारत में आज भी 90 प्रतिशत शादी परिवार द्वारा तय की जाती हैं। वहीं केवल पांच प्रतिशत लोग प्रेम विवाह करते हैं। सर्वे में 49 प्रतिशत शादीशुदा भारतीयों ने इस बात को स्वीकार किया कि वे अपने साथी के अलावा किसी और के साथ अंतरंग संबंध में रहे हैं। वहीं 10 में से पांच (47 प्रतिशत) पहले से ही कैजुअल सेक्स या फिर 46 प्रतिशत वन नाइट स्टैंड में लिप्त हैं।

बेवफाई के मामले में भारतीय महिलाएं आगे हैं। 41 प्रतिशत ने माना है कि वह अपने जीवनसाथी के अलावा किसी अन्य के साथ लगातार शारीरिक संबंध बनाती हैं। वहीं केवल 26 प्रतिशत पुरुष ऐसा करते हैं। वहीं 53 प्रतिशत शादीशुदा महिलाओं और 43 प्रतिशत पुरुषों ने माना है कि शादी से पहले उनके अंतरंग संबंध थे।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 2 =

Back to top button