31 दिसंबर तक भारत का ये राज्य हो जाएगा कैशलेस

केंद्र सरकार द्वारा नोटबंदी की धोषणा किए जाने के बाद अब देश को कैशलेस ईकोनॉमी की तरफ ले जाने की कोशिशें भी की जा रही हैं। इसी कड़ी में अब गोवा 31 दिसंबर के बाद देश का पहला कैशलेस राज्‍य बन जाएगा।

अभी-अभी: जनधन खातों में जमा हुए 27 हजार करोड़, तुरंत चेक करें अकांउट5cash-less

यहां रहने वाले लोग 31 दिसंबर के बाद अपने जरूरत की हर खराब हो सकने वाली चीज को लोग बस मोबाइल का एक बटन दबाकर खरीद सकेंगे। उन्‍हें इसके लिए कैश पेमेंट नहीं करना होगा। गोवा के चीफ सेक्रेटरी आरके श्रीवास्‍तव के अनुसार जल्‍द ही खरीदी का पैसा ग्राहक के बैंक अकाउंट से डेबिट होने लगेगा।

जानकारी के अनुसार गोवा को कैशलेस बनाने के लिए ग्राहक को को अपने मोबाइल से *99# डायल करना होगा इसके लिए जरूरी नहीं है कि उसके पास स्‍मार्टफोन हो। इसके बाद ग्राहक को बताए गए इंस्‍ट्रक्‍शन को फॉलो करना होगा जिससे लेनदेन की प्रक्रिया पूरी होगी।

यह सिस्‍टम उन छोटे दुकानदारों के लिए शुरू किया जा रहा है जिनके पास डेबिट कार्ड स्‍वाइप मशीन नहीं है। इसके अलावा अन्‍य दुकानों, मॉल और होटल्‍स में कार्ड स्‍वेपिंग मशीनें काम करती रहेंगी। लोगों को इन स्‍वाइप मशीनों के प्रति जागरूक करने के लिए पणजी और मापुसा में सोमवार को कैंपेन भी चलाया जाएगा।

इस कदम को लेकर राज्‍य के मुख्‍यमंत्री लक्ष्‍मीकांत परसेकर ने कहा कि हालांकि कैश लेनदेन पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया है लेकिन इस मुहिम को कैशलेस ट्रांजेक्‍शन को बढ़ावा देने के लिए लाया जा रहा है, इसमें ट्रांजेक्‍शन को लेकर काई मिनिमम लिमिट नहीं होगी।

वहीं इसे अमल में लाने के लिए रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने शनिवार को अधिकारियों की एक बैठक भी की जिसमें राष्‍ट्रीयकृत बैकों के अधिकारी भी मौजूद थे। इस बैठक में पर्रिकर ने राज्‍य में कैशलेस स्‍कीम को लागू करने के तौर-तरीकों पर चर्चा की। रक्षा मंत्री ने बैठक के बाद कहा था कि शुक्रवार को सांखली में विजय संकल्‍प रैली में पीएम ने कैशेलस सोसायटी के अपने सपने के बारे में बात की थी और मुझे कहा था कि गोवा ऐसा पहला कैशलेस राज्‍य बन सकता है।

इतने बड़े कदम को लेकर चीफ सेक्रेटरी श्रीवास्‍तव ने कहा कि राज्‍य को कैशलेस बनाने में एक और अच्‍छी बात यह है कि यह छोटा राज्‍य है जिसकी जनसंख्‍या महज 15 लाख है वहीं यहां 17 लाख मोबाइल कनेक्‍शन है। हमारे पास 22 लाख बैंक अकाउंट है जिसका मतलब एक व्‍यक्ति के एक से ज्‍यादा अकाउंट है। गोवा में ज्‍यादातर लोगों के पास क्रेडिट और डेबिट कार्ड हैं इसलिए इसे कैशलेस बनाने में ज्‍यादा दिक्‍कत नहीं आएगी।

 

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button