30 की उम्र में ही चेहरे पर झलकने लगा है बुढ़ापा, ये तेल बन सकता है वरदान

- in जीवनशैली

दिन बीतेंगे, उम्र बढ़ेगी। चेहरे पर उम्र दिखेगी और मन में बढ़ती चली जाएगी निराशा। क्या हम उम्र को रोक सकते हैं? है कोई उपाय? हर कोई लंबे समय तक जवान और खूबसूरत बने रहना चाहता है। लेकिन सही ढंग से त्वचा की देखभाल न करना और खानपान सही न होने के कारण बढ़ती उम्र के लक्षण जल्दी दिखाई देने लगते हैं। हमें यहां पर यह जानने की भी जरूरत है कि प्राकृतिक तौर से चेहरे पर पड़ती झुर्रियांं और झाइयों की समस्या न केवल हमारी उम्र है, बल्कि सूरज की तेज किरणें, खान-पान के अलावा कई अन्य कारण भी हैं। तो आइए जाने उम्र से पहले बढ़ती उम्र को कैसे रोका जाए।30 की उम्र में ही चेहरे पर झलकने लगा है बुढ़ापा, ये तेल बन सकता है वरदान

हाल ही में किए गए एक शोध से पता चलता है कि बढ़ती उम्र के साथ-साथ शरीर की कार्यक्षमता कम होने लगती है, जिसकी वजह से शरीर के लिए जरूरी तत्व माइलिन में कमी आती है और इंसान उम्रदराज दिखने लगता है। लेकिन कई बार खराब जीवनशैली के चलते भी कम उम्र में ही माइलिन में कमी आने लगती है। इस वजह से भी इंसान उम्रदराज दिखने लगता है। यहीं से शुरू होती है, एजिंग की समस्या।

क्रोनिक डिहाइड्रेशन
स्किन एजिंग का सबसे बड़ा कारण क्रोनिक डिहाइड्रेशन है। आरएएस लग्जरी ऑइल्स की संस्थापिका शुभिका जैन कहती हैं कि शरीर में पानी की कमी त्वचा को रूखा कर देती है। शरीर में पर्याप्त मात्रा में पानी सेलुलर स्तर पर त्वचा की नमी को बनाए रखने में मदद करता है, जिससे त्वचा काफी स्वस्थ और चमकदार बनी रहती है। त्वचा को हाइड्रेटेड और चमकदार बनाए रखने के लिए रोजाना कम से कम आठ गिलास पानी पीना चाहिए।

कोर्टिसोल
कोर्टिसोल एक तनाव देने वाला हॉर्मोन है। जब शरीर में इसका स्तर ज्यादा होता है, तो यह मानसिक और शारीरिक थकान का कारण बनता है, जिस कारण त्वचा समय से पहले ही मुरझाने लगती है। विशेषज्ञों का कहना है कि रोजाना व्यायाम, ध्यान, मालिश, योग और अरोमाथैरेपी न केवल आपके दिमाग और शरीर को दिनभर चार्ज रखेंगे, बल्कि कोर्टिसोल के स्तर को कम करके हीलिंग हार्मोन को भी बढ़ाएंगे।

और क्या-क्या हैं उपाय…
किएहल इंडिया के शिक्षा प्रबंधक श्याम कुमार के अनुसार, झुर्रियों को रोकने के लिए एक बेहतर मॉइस्चराइजिंग क्रीम, जिसमें ह्यलुरोनिक एसिड, जैसमोनिक एसिड, तांबा पीसीए और कैल्शियम पीसीए जैसे अवयवों का इस्तेमाल करना चाहिए। वहीं मॉइस्चराइजिंग क्रीम त्वचा को हाइड्रेट रखने के साथ-साथ हवा में से नमी खींचकर त्वचा को नरम, चिकनी और हेल्थी बनाती है।

हरी सब्जियां
त्वचा की ज्यादातर समस्याएं हमारे खान-पान से जुड़ी हैं। एंटी एजिंग से बचने के लिए हरी सब्जियों जिनमें विटामिन ए, सी, ई और बीटा-कैरोटीन मौजूद हों, का सेवन करना चाहिए, ताकि शरीर को पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व प्राप्त हो सकें। दरअसल, हरी सब्जियां शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखती हैं, साथ ही रक्तचाप और ऑक्सीडेटिव तनाव से भी बचाए रखती हैं।

प्रोटीन भी चाहिए
कोलेजन उन प्रमुख तत्वों में से एक है, जो हमारे चेहरे की त्वचा को चमकदार, मुलायम और जवां बनाता है। कोलेजन निर्माण की दर युवावस्था में तेज होती है। यह उम्र बढ़ने के साथ-साथ घटती जाती है, जिससे झुर्रियां और फाइन लाइन्स के होने का खतरा बढ़ जाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन जैसे बादाम, ब्रोकली, ओट्स, अखरोट, सोया और दूध आदि का सेवन करने से शरीर में कोलेजन बरकरार रहते हैं।

प्राकृतिक तेल
कई सौंदर्य उत्पादों में जहरीले रसायन तत्व पाए गए हैं, जो न केवल त्वचा में टॉक्सिक की मात्रा को बढ़ाते हैं, बल्कि त्वचा को इससे हानि भी पहुंचाते हैं। स्किन अलाइव क्लीनिक के निदेशक और सलाहकार त्वचा विशेषज्ञ चिरंजिव छाबरा का कहना है कि ऐसे प्राकृतिक तेलों का उपयोग करना चाहिए, जिनमें लैवेंडर, गुलाब, जेरेनियम आदि भरपूर मात्रा में पाए जाते हों। ये न केवल आपकी त्वचा को सुंदर बनाएंगे, बल्कि त्वचा को अंदर से निखारने का भी काम करेंगे।

गिलोय भी उपयोगी
गिलोय में एंटीबायोटिक्स एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने वाले तत्व पाए जाते हैं। इस दिशा में हुए अध्ययन बताते हैं कि गिलोय में ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो विषाणुओं से लड़ने में समर्थ होते हैं। गिलोय प्रभावशाली ढंग से ऑक्सीडेटिव-स्ट्रेस को दबाती है, जिससे हमारे शरीर को विविध संक्रमणों से लड़ने में मदद मिलती है। इससे आप लम्बी आयु और चिर यौवन प्राप्त करती हैं।

सनस्क्रीन लोशन
हर मौसम में सूरज से यूवी-ए और यूवी-बी किरणें उत्सर्जित होती हैं, जो त्वचा को गंभीर क्षति पहुंचाती हैं। साथ ही प्री-मैच्योर एजिंग और त्वचा कैंसर का कारण भी हो सकती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि जब दिन के समय सूरज अपने चरम पर हो, तो उस समय विशेष रूप से एसपीएफ 50 का इस्तेमाल करना चाहिए।

धू्म्रपान को न कहें
धूम्रपान करने से आपकी त्वचा को काफी नुकसान हो सकता है। जीवन में यदि ध्रूमपान की आदत को छोड़ दें, तो आपकी त्वचा निखर उठेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

खाली पेट भूलकर भी न खाएं यह 8 चीजें, वरना खुद पढ़ ले…

हमारा दिन कैसा रहेगा रहता है? हमारी शारीरिक