12वीं के बाद सीधे ही करो बीएड, यह है योजना

phpThumb_generated_thumbnail (82)एजेंसी/12वीं के बाद प्रदेश के विद्यार्थी अब सीधे बीएड कर सकेंगे। इसके लिए राज्य सरकार प्रदेश में चार साल का इंटीग्रेटेड कोर्स शुरू करने जा रही  है। आगामी सत्र से शुरू होने वाले कोर्स के लिए सरकार की एनओसी प्रक्रिया जारी है। अगले साल की एनओसी के लिए भी सरकार ने पॉलिसी जारी कर दी है। इंटीग्रेटेड कोर्स में विद्यार्थी को स्नातक व बीएड का सम्मिलित कोर्स करावाया जाएगा। एेसे में सरकार केवल उन्हीं कॉलेज में कोर्स शुरू कर रही हैै, जहां पहले से बीए व बीएससी कोर्स संचालित है। जहां केवल बीएड कॉलेज संचालित हैं, वहां इस कोर्स की अनुमति नहीं दी जाएगी।

बीएड व एमएमड भी इंटीग्रेटेड

चार साल के इंटीग्रेटेड बीएड कार्यक्रम के साथ प्रदेश में बीएड व एमएड का भी इंटीग्रेटेड कोर्स होगा। यह कोर्स तीन साल का होगा। जिसकी एनओसी भी केवल उन्हीं कॉलेजों को जारी की जाएगी, जहां पहले से बीएड कॉलेज संचालित है।

नए बीएड कॉलेज की राह भी खुली

सरकार ने नए बीएड कॉलेज खोलने की राह भी खोल दी है। लेकिन, नए कॉलेज की अनुमति सरकार  उन्हीं तहसीलों में देगी, जहां पहले से कोई बीएड कॉलेज संचालित नहीं है।  एनसीटीई के नियम व रेगुलेशन 2014 के तहत नए बीएड  कॉलेज खोलने की स्वीकृति के बाद इन कॉलेजों में प्रवेश अगले सत्र यानी 2017-18 से हो सकेंगे।  नए कॉलेज में केवल बीएड कोर्स ही संचालित हो सकेंगे। एमएड व बीपीएड कोर्स शुरू करने के लिए नीति के तहत अनुमति नहीं मिलेगी।

कोटा विश्वविद्यालय कराएगा बीएड

राज्य सरकार ने सत्र 2016-17 के शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए जिम्मेदार  विश्वविद्यालय के नाम भी तय कर दिए हैं। जिसके तहत बीएड व इंटीग्रेटेड कोर्स कोटा विवि, शिक्षा शास्त्री- शिक्षा आचार्य तथा इंटीग्रेटेड कोर्स जगद्गुरु रामानंदाचार्य संस्कृत विवि, एमएड, बीपीएड, एमपीएड तथा इंडीग्रेटेड कोर्स राजस्थान विवि की ओर से कराए जाएंगे।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button