स्टील कारोबार में दस लाख करोड़ का निवेश संभव

- in कारोबार

दिल्ली: भारत देश में स्टील धातु की बढ़ती मांग कि पूर्ति करने के लिए करीब 10 लाख करोड़ रुपए निवेश की जरूरत पड़ेगी. इस मामले में केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी विरेंद्र सिंह ने कहा है कि वर्ष 2030 तक देश में 30 करोड़ टन स्टील उत्पादन का लक्ष्य बनाया गया है.

इस्पात मंत्री चौधरी विरेंद्र सिंह ने यह जानकारी ओडिशा में जेएसपीएल के 60 लाख टन वार्षिक उत्पादन क्षमता वाले स्टील प्लांट के उद्घाटन प्रोग्राम में यह जानकारी दी इसमें स्टील उत्पादन की चार इकाइयां शुरू की गई है. इस प्लांट में 10,000 करोड़ रुपये की कोल गैसीफिकेशन यूनिट और ब्लास्ट फर्नेश भी शामिल हैं.यहाँ पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने इनमें से एक इकाई का उद्घाटन भी किया.

केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी विरेंद्र सिंह ने ओडिशा को उभरते स्टील हब का दर्जा देते हुए बताया कि अगले 12 वर्षो में देश के कुल स्टील उत्पादन में ओडिशा की हिस्सेदारी तक़रीबन एक तिहाई तक पहुंच जाएगी. आगे यहाँ पर इस्पात मंत्री सिंह ने कहा कि सरकार ने 2030 तक देश में स्टील उत्पादन की क्षमता बढ़ाकर लगभग 30 करोड़ टन तक करने का लक्ष्य अपने सामने रखा है. उत्पादन बढ़ने के लिए ओडिशा में चार लाख करोड़ रुपये का निवेश होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अरुण जेटली ने कहा- NBFC में तरलता बनाए रखने के लिए हर संभव कदम उठाएगी सरकार

निवेशकों की चिंता को कम करने के लिहाज