महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित यह 10 देश, कर सकते हैं सोलो ट्रैवलिंग

महिलाओं की सुरक्षा पूरी दुनिया में एक गंभीर विषय बनकर उभर रहा है. दुनियाभर में ऐसी बहुत कम जगहें हैं जहां महिलाओं पर अत्याचार या यौन हिंसा से जुड़े मामले सामने न आते हों. महिलाओं का घर से अकेले निकलना तक सेफ नहीं है. जबकि दुनिया में कुछ देश ऐसे भी हैं, जहां महिलाओं बिना किसी खौफ या झिझक के सोलो ट्रैवल का मजा ले सकती हैं. ये देश महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित स्थान माने जाते हैं.

फिनलैंड– नेचर लवर्स के लिए फिनलैंड एक आइडियल डेस्टिनेशन है. यहां के लेमेन्जोकी नेशनल पार्क, घने जंगल और विशाल झीलें सैलानियों के बीच आकर्षण का केंद्र हैं. ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक फॉरम’ ने अपनी ट्रैवल एंड टूरिज्म कॉम्पीटिटिव रिपोर्ट में महिलाओं की सुरक्षा के आधार पर फिनलैंड को यूरोप का सबसे सुरक्षित देश माना है.

कनाडा– कनाडा के सदियों पुराने जंगल, बर्फ की चादर से ढके पहाड़, खूबसूरत शहर और बड़ी झीलें कनाडा के टूरिज्म की पहचान हैं. यहां के घने वन वाकई देखने लायक हैं. शहरों के मल्टीकल्चरल तौर-तरीके इसे और भी ज्यादा खास बनाते हैं. अमेरिकी देशों में कनाडा को महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित डेस्टिनेशन माना जाता है. सोलो फीमेल ट्रैवलर्स के लिए ये देश बेहद सुरक्षित है.

न्यूजीलैंड– एडवेंचर, स्पोर्ट्स और नेचर से प्यार करने वालों के लिए न्यूजीलैंड बेहद खास देश है. यह छोटा सा देश दो मुख्य द्वीपों से मिलकर बना है जो कई खूबसूरत दृश्यों को समेटे हुए है. इंस्टिट्यूट फॉर इकोनॉमिक्स एंड पीस के एक सर्वे के मुताबिक, वूमेन टूरिज्म के लिहाज से न्यूजीलैंड दुनिया का चौथा सबसे सुरक्षित देश है. कुछ रिपोर्ट्स में तो महिला सुरक्षा के मद्देनजर न्यूजीलैंड को सबसे सुरक्षित देश माना गया है.

उरुग्वे– ब्राजील के ठीक बगल में उरुग्वे नाम का एक छोटा सा देश है. उरुग्वे अपनी खूबसूरत बीच, प्राचीन स्मार्क और शांत वातावरण के साथ पूरी दुनिया के टूरिस्टों के स्वागत को तैयार रहता है. अमेरिका में उरुग्वे ही एक ऐसा देश है जहां महिलाओं के साथ हिंसा के सबसे कम मामले सामने आते हैं. यहां भी सोलो महिलाएं बिना किसी डर के सोलो ट्रिप एंजॉय कर सकती हैं.

स्विट्जरलैंड– स्विट्जरलैंड को धरती का स्वर्ग कहा जाता है. यूरोप का दिल कहे जाने वाला स्विट्जरलैंड टूरिस्ट के बीच काफी लोकप्रिय है. सांस्कृतिक विविधता, आकर्षक नजारे और महानगरों का परिदृश्य इस देश की खूबसूरती को चार चांद लगाता है. ग्लोबल पीस इंडेक्स (GPI) के मुताबिक, स्विट्जरलैंड दुनिया का सातवां सबसे शांत देश है और महिलाओं बिना किसी डर के यहां के टूरिज्म का लुत्फ उठा सकती हैं.

बेल्जियम– इस देश में कई ऐतिहासिक स्थल, शानदार इंफ्रास्ट्रक्चर और विभिन्न पर्यटक स्थल मौजूद हैं. इंटरनेशनल वूमेंस ट्रैवल सेंटर की लिस्ट में बेल्जियम महिलाओं के घूमने-फिरने के लिहाज से दसवें स्थान पर हैं. विदेश में पढ़ाई-लिखाई करने वालों के बीच भी ये काफी फेमस है. यहां सोलो ट्रैवल करने वाली महिलाओं को अपनी ही उम्र की कई ट्रैवलर मिल जाती हैं.

ऑस्ट्रिया– ट्रैवलर्स के लिए ऑस्ट्रिया एकदम परफेक्ट देश है. इस देश के लोगों का मानना है कि इस जगह पहुंचने के बाद हर समस्या खुद-ब-खुद गायब हो जाती है. बर्फ से ढके पहाड़, हर-घने जंगल और झील का चमकता पानी ऑस्ट्रिया को और भी ज्यादा सुंदर बनाता है. इंटरनेशनल वूमेंस ट्रैवल सेंटर ने सोलो वूमेन ट्रैवल की लिस्ट में ऑस्ट्रिया को चौथे स्थान पर रखा है.

आइसलैंड– आइसलैंड बिल्कुल अपने नाम की तरह ही है. इस देश का तकरीबन 15 प्रतिशत हिस्सा बर्फ से ढका हुआ है. आप वहां बर्फ पर चलते हुए छिपी हुई गुफाओं को खोज सकते हैं. ग्लोबल पीस इंडेक्स (GPI) के मुताबिक, आइसलैंड एक ऐसा देश है जहां महिलाओं के खिलाफ क्राइम रेट पूरी दुनिया में सबसे कम पाया जाता है. फीमेल एडवेंचर ट्रैवल के लिहाज से भी ये देश काफी अच्छा है.

जापान– जापान एक ऐसा देश है जहां सदियों पुरानी परंपरा और सुपर एडवांस टेक्नोलॉजी एकसाथ बसती हैं. टोक्यो एक बेहद साफ-सुथरा और काफी ऑर्गेनाइज्ड महानगर है. इसके अलावा, ओसाका जैसे मॉडर्न शहर में भी एक्सप्लोर करने के लिए काफी कुछ है. ग्लोबल पीस इंडेक्स (GPI) की रिपोर्ट में जापान को दुनिया का छठा सबसे शांत देश माना गया है.

चिले– घूमने-फिरने के शौकीन लोगों के लिए चिले एक बेहद खास और फेमस डेस्टिनेशन है. यहां एटाकाम, पैटा गोनिया और सेंटियागो जैसी जगहें टूरिस्ट के बीच काफी फेमस हैं. प्राचीन शहर, खूबसूरत बीच और नेचुरल ब्यूटी चिले की पहचान बन चुके हैं. ग्लोबल पीस इंडेक्स (GPI) के मुताबिक, महिलाओं के साथ क्राइम की लिस्ट में चिले 24वें स्थान पर है. सोलो फीमेल ट्रैवलिंग के लिहाज से भी ये देश काफी सुरक्षित है.

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button