10 जिलों में खत्म हो सकता है पेट्रोल व डीजल, गैस की भी किल्लत, जानिए अभी

5_1443932189इंदौर। ट्रांसपोर्टर्स की हड़ताल के चलते इंदौर सहित आसपास के 10 जिलों में रसोई गैस की आपूर्ति खासी प्रभावित हो गई है। जिले में हर दिन 30 हजार रसोई गैस सिलेंडरों की खपत है, जबकि अभी 15 हजार से कम रसोई गैस सिलेंडर प्लांट पर पहुंच रहे हैं। मुश्किलें और बढ़ने वाली हैं, पेट्रोल-डीजल टैंकर संचालकों ने सोमवार से हड़ताल में शामिल होने की सूचना दे दी है। 
पेट्रोल पंप मालिक, ट्रांसपोर्टर्स और प्लांट मैनेजरों के बीच हुई चर्चा के बाद तय हुआ कि डिपो रविवार को खुले रहेंगे और टैंकर संचालक सभी पंपों पर तेल पहुंचा देंगे, पंप मालिक स्टॉक फुल कर लेंगे। भारत पेट्रोलियम के टेरीटरी मैनेजर के. रंगनाथन ने प्रशासन को पत्र लिखकर भी चेता दिया है कि पेट्रोल-डीजल की किल्लत हो सकती है, इसलिए प्रशासन आवश्यक कदम उठाए।
 
खपत का हिसाब
30 हजार रसोई गैस सिलेंडर की खपत इंदौर जिले में रोज होती है।
15 हजार सिलेंडर ही आ रहे हैं हड़ताल के चलते। 
1.5 लाख लीटर है पेट्रोल की खपत। 
04 लाख लीटर डीजल की खपत हर दिन होती है शहर में।
 
आपूर्ति ठप होने की आशंका
इंदौर पेट्रोल डीलर्स एसोसिएशन के सचिव पारस जैन ने कहा पंपों पर तीन दिन तक ही स्टॉक रखने की क्षमता होती है। बुधवार तक यह स्टॉक खत्म हो जाएगा।
 
इन जिलों में आएगी समस्या 
मांगलिया में तीनों पेट्रोल कंपनियों के प्लांट हैं। यहां से देवास, धार, झाबुआ, नीमच, बड़वानी, खरगोन, खंडवा व अन्य जिलों में तेल की आपूर्ति होती है।

 

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button