हिंसक अलगाववादियों ने प्रेस्बिटेरियन स्कूल से किया 79 छात्रों और प्रिंसिपल का अपहरण

सशस्त्र पुरुषों के एक समूह ने कैमरून के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में नक्कन गांव के प्रेस्बिटेरियन स्कूल से 79 छात्रों और उनके प्रिंसिपल का अपहरण कर लिया है, वहां के राजयपाल ने ये जानकारी मीडिया को दी। राज्यपाल डेबिन चौफ्फो के अनुसार, रविवार को हुई अपहरण की घटना अंग्रेजी बोलने वाले क्षेत्र की राजधानी बमेंडा के हुई थी।कैमरून में हिंसक अलगाववादियों ने प्रेस्बिटेरियन स्कूल से किया 79 छात्रों और प्रिंसिपल का अपहरण

Loading...

अपहरण किए गए बच्चों के कथित रूप से एक वीडियो को उन लोगों के माध्यम से सोशल मीडिया पर जारी किया गया है, जो खुद अंबा बॉयज के नाम से बुलाते हैं, जो अंबज़ोनिया राज्य के नाम पर लिया गया है जहां सशस्त्र अलगाववादी कैमरून के उत्तर-पश्चिम और दक्षिणपश्चिम क्षेत्रों में स्थापित करने की कोशिश कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर जारी किये गए वीडियो में अपहरणकर्ता बच्चों के नाम और उनके माता-पिता के नाम देने के लिए लगभग छह बच्चों को मजबूर करते नजर आ रहे हैं। बच्चों ने वीडियो में कहा कि उन्हें रविवार को अगवा कर लिया गया था, और वे नहीं जानते कि उन्हें कहां ले जाया जा रहा है।

जो लोग खुद को अपहरणकर्ता बता रहे हैं, उनका कहना है कि वे केवल उन्हीं बच्चों को छोड़ देंगे जब वे अपनी इच्छानुसार हासिल करेंगेवे बच्चो को तभी बच्चो को छोड़ेंगे तब उनकी मांगे पूरी कि जायेंगी। हिंसक अलगाववादियों ने अम्बजोनिया की स्वतंत्रता के लिए एंग्लोफोन क्षेत्रों को अस्थिर करने हेतु हथियार उठाए, जिसे वे एक अलग राज्य घोषित करना चाहते हैं।

पिछले हफ्ते हिंसक अलगाववादी आतंकवादियों ने दक्षिण-पश्चिम कैमरून में राज्य संचालित रबर बागान पर श्रमिकों पर हमला किया, उनकी उंगलियां इस वजह से काट दीं क्योंकि उन पुरुषों ने खेतों से दूर रहने के आदेश को खारिज कर दिया था।

‘हम संघर्ष के बाद आपको छोड़ देंगे। और अब आप लोगों को यही स्कूल जाना होगा’, अंबा समूह के एक व्यक्ति ने कहा। हालांकि वीडियो को पूरी तरह सत्यापित नहीं किया जा सका, माता-पिता सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं कि वीडियो में उनके बच्चे भी हैं।

पिछले साल कैमरून के एंग्लोफोन क्षेत्रों में सैकड़ों लोग मारे गए थे, जहां उत्तर-पश्चिम और दक्षिणपश्चिम क्षेत्रों में प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सरकार की कार्रवाई के बाद सशस्त्र अलगाववादियों और सेना के बीच हिंसा में बढ़ गयी है , जिनका दवा है कि अंग्रेजी बोलने वाले अल्पसंख्यक के तौर पर वे फ्रेंच बोलने वाली सरकार के कारण हाशिये पर हैं।

loading...
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *