Home > जीवनशैली > सायनाइड का टेस्ट किसी को नहीं पता, हम बताते हैं…

सायनाइड का टेस्ट किसी को नहीं पता, हम बताते हैं…

कहानी -1-NKB- सायनाइड इतना खतरनाक ज़हर है कि इसका टेस्ट किसी को पता नहीं चलता. क्यूंकि टेस्ट को बताने से पहले से ही बताने वाले की मृत्यु हो जाती है.

कहानी -2-NKB-
एक बंदे ने सायनाइड का टेस्ट पूरी दुनिया को बताने के लिए अपनी जान की कुर्बानी देने की सोची. पेन कॉपी लेकर बैठ गया. एक हाथ में पेन दूसरे में सायनाइड. एक हाथ से सायनाइड मुंह में डाला दूसरे से लिखना शुरू किया -S …बस अंग्रेजीं का अक्षर एस(s) ही लिख पाया और मर गया. अब अंग्रेजी के एस अक्षर से कितने ही टेस्ट आते हैं

Sweet – मीठा
Sour – खट्टा
Salt – नमकीन
आज तक पता नहीं चल पाया कि सायनाइड का टेस्ट कैसा है. बस यही पता चल पाया कि सायनाइड का टेस्ट अंग्रेजी के एस(s) अक्षर से शुरू होता है.

“साइनाइड क्या है”.. साइनाइड’ को एक अम्ब्रेला टर्म कहा जा सकता है. अंब्रेला टर्म मतलब ‘साइनाइड’ उन पदार्थों का ग्रुप है जिनमें कार्बन-नाइट्रोजन (सीएन) बॉन्ड होता है.

सोडियम साइनाइड (NaCN), पोटेशियम साइनाइड (KCN), हाइड्रोजन साइनाइड (HCN), और साइनोजेन क्लोराइड (CNCl) घातक हैं, लेकिन नाइट्राईल्स नाम के ढेरों यौगिक साइनाइड होते हुए भी ज़हर नहीं होते. बल्कि कई नाइट्राईल्स तो दवाइयों में यूज़ होते हैं. नाइट्राईल्स के खतरनाक न होने का कारण केमिस्ट्री में छुपा हुआ है, लेकिन अभी हमें केमिस्ट्री नहीं सालों, इन फैक्ट सदियों, से चली आ रही मिस्ट्री को सॉल्व करना है.

नाइट्राईल्स को छोड़कर बाकी साइनाइड जहर क्यूं होते हैं,दरअसल साइनाइड, हमारे शरीर की कोशिकाओं और ऑक्सीजन के बीच दीवार का काम करता है. और हमारे शरीर की कोशिकाओं को ऑक्सीजन नहीं मिलेगी तो कोशिकाएं ज़्यादा देर तक जीवित नहीं रह पाएंगी. और कोशिकाएं, जिनसे मिलकर हमारा शरीर बना है, जीवित नहीं रहीं तो शरीर भी मृत.

अगर साइनाइड अपने प्योरेस्ट फॉर्म में अंदर ले लिया जाए तो सेकेंडों में व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है. मिर्गी के दौरे, कार्डिएक अरेस्ट, कोमा वगैरह के बाद, के साथ या उस सबसे पहले ही. और अगर इसकी कम मात्रा ली जाए या प्योर फॉर्म के बजाय किसी में डायल्यूट होकर आए बेहोशी, कमजोरी, चक्कर आना, सिरदर्द, भ्रम की स्थिति और सांस लेने में कठिनाई हो सकती है.

अब कम मात्रा, अधिक मात्रा एबस्ट्रेक्ट टर्म हैं, इसलिए स्पेसिफिकली बात करें तो 0.5–1 mg प्रति लीटर माइल्ड, 1–2 प्रति लीटर मोडरेट, 2–3 mg प्रति लीटर गंभीर और 3 mg प्रति लीटर से अधिक सायनाइड जानलेवा साबित होता है.

यानी कि जीभ से साइनाइड का संपर्क होते ही मृत्यु हो जाती है बेशक ग़लत है लेकिन यदि एक लिमिट से अधिक और अपने प्योर फॉर्म में ये ली जाए तो, जैसा कि ऊपर कहा, बस चंद सेकेंड लगते हैं, ‘है’ से ‘था’ होने में. समझना होगा कि साइनाइड किसी की हत्या करने के लिए या आत्महत्या के कम यूज़ किया जाता है. एक रिपोर्ट के अनुसार 2013 में पूरी दुनिया में केवल आठ लोगों का मर्डर सायनायड के थ्रू हुआ था

साइनाइड का यूज़ तबसे हो रहा है जब पता भी नहीं था कि ये ‘ज़हर’ साइनाइड है. और ज़हर का इस्तेमाल तो आज से साढ़े छः हज़ार वर्षों पूर्व से होता आ रहा है. जब हम ‘साढ़े छः हज़ार’ साल की बात कर रहे हैं तो हम उस ज़हर की बात कर रहे हैं जो एक व्यक्ति दूसरे को जानबूझकर खिलाता है या आत्महत्या करने के लिए खुद खाता है. वरना ज़हर प्रकृति में तो पहले से ही विद्यमान था, और मानव सभ्यता शुरू होने के साथ ही, अंजाने में ज़हर खा या सूंघ लेने से मृत्यु होती रही होंगी. भारत में ‘ज़हर’ शब्द का इस्तेमाल चाणक्य ने 350 इसवी पूर्व ही अपने लेखों में कर लिया था. लेकिन उससे पहले सुश्रुत (भारत के एक प्रसिद्ध वैदिक चिकित्सक जिन्हें शल्य चिकित्सा का जनक भी कहा जाता है) ने लगभग 600 ईस्वी पूर्व ‘धीमे ज़हर’ और ‘धीमे ज़हर’ को बनाने और प्रयोगों की पूरी प्रोसेस समझा दी थी. साइनाइड की स्पेसिफिकली बात करें तो नाज़ियों के कंसंट्रेशन कैंप में इसी (हाइड्रोजन साइनाइड) का इस्तेमाल मास-मर्डर के लिए किया जाता था – गैस चैंबर में. इसका व्यवसायिक नाम था,ज़ायक्लोन –बी.

रूस पर एक डबल एजेंट की हत्या का आरोप लगा है. उसमें साइनाइड का यूज़ तो नहीं किया गया, लेकिन हम रूस की बात इसलिए बता रहे हैं क्यूंकि अतीत में रूस साइनाइड का इस्तेमाल हत्याओं और बहुतायत से करता आया है. बाकी हादसों वगैरह में तो साइनाइड लोगों की मृत्यु का कारण बनती ही है – जैसे कहीं आग लग जाए, कोई ग़लती से दूषित चीज़ खा/पी ले, आदि.साथ ही कई आतंकवादी संगठन, जैसे ‘लिट्टे (एलटीटीई)’ आदि अपने गले में सायनाइड से भरा हुआ लॉकेट बांध के रखते थे ताकि पकड़े जाने की स्थिति में वो उसे खाकर तुरंत मृत्यु का प्राप्त हो सकें.

Loading...

Check Also

सुनें अपने दिल की भी... बीमारी से पहले देते हैं ये संकेत

सुनें अपने दिल की भी… बीमारी से पहले देते हैं ये संकेत

हमारी खराब लाइफस्टाइल और एक्सरसाइज न करने की आदत दिल से जुड़ी कई समस्याएं पैदा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com