सात महीने बाद इस सांप को कोर्ट ने किया बाइजत बरी, हत्‍या का था आरोप

खबर की हैडिंग पर यकीन करना थोड़ा मुश्किल होगा। लेकिन, ऐसा ही एक मामला राजस्थान के झुंझुनूं जिले में सामने आया है। यहां एक महिला का हत्यारा सांप सात माह बाद निर्दोष पाया गया। हैरान करने वाले इस मामले का पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। मामला जिले के बुहाना के सागवा गांव का है।

सात महीने बाद इस सांप को कोर्ट ने किया बाइजत बरी, हत्‍या का था आरोप

दरअसल, प्रेम प्रसंग में रोड़ा बनी सास सुबोध को रास्ते से हटाने के लिए बहू अल्पना जांगिड़ ने अपने प्रेमी मनीष मीणा के साथ मिलकर उसे सांप से डसवाकर मरवा दिया। सुबोध की मौत के बाद ग्रामीणों ने मिलकर सांप को मार दिया। सांप के काटने पर किसी ने पुलिस रिपोर्ट भी दर्ज नहीं करवाई। सभी ने मान लिया कि सुबोध की मौत सांप के काटने पर हुई है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link

सुबोध की मौत के बाद उसकी छोटी बहन सुनीता कुछ दिन तक घर में रही। सुबोध व सुनीता आपस में बहन भी हैं और देवरानी-जेठानी का भी रिश्ता है। घर में रहने के दौरान अल्पना फिर अपने प्रेमी से बातें करने में व्यस्त रहने लगी। एक दिन वह फोन पर अपने प्रेमी मनीष से कह रही थी कि जिस रात को तुम आए थे उस दिन किसी ने देखा तो नहीं था। इसके अलावा एक तरफ घर में मौत थी दूसरी तरफ वह अपने प्रेमी से वीडियो कॉल करती रही। लगातार फोन पर बात सुनने पर उसका शक यकीन में बदल गया और पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाई।

मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की तो सामने आया कि सुबोध की मौत सांप के डसने से नहीं, बल्कि दम घुटने से हुई थी। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी बहू व उसके प्रेमी सहित एक जने को गिरफ्तार किया। पुलिस के अनुसार महिला व उसके प्रेमी के बीच बाधक बन रही सास की हत्या गला व मुंह दबाकर की गई थी। बहू ने पहले केले के जूस(सेक) में नींद की गोलियां खिलाई। फिर सास जब गहरी नींद में सो गई तो अपने प्रेमी को बुला लिया। खुद ने तकिये से सास का मुंह दबाया और प्रेमी ने गला दबाया।

दरअसल सुबोध की हत्या के लिए अल्पना और मनीष ने पहले से ही प्लानिंग बना रखी थी। पहले उसने सुबोध की गला व मुंह दबाकर हत्या की फिर नाटक रचने के लिए कमरे में सांप छोड़ दिया और सभी से कहा कि सांप ने सास को डस लिया है। जिससे उसकी मौत हो गई। ग्रामीणों ने सांप को भी मार दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button