शेयर बाज़ार में तेज़ी पर ब्रेक, पांच सत्रों में पहली बार सेंसेक्स टूटा

शेयर बाजार का सेंसेक्स मंगलवार (7 फरवरी) को चार महीने के शीर्ष स्तर से नीचे उतर गया और 104 अंक टूट गया। पांच सत्रों में पहली बार सेंसेक्स टूटा है। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 8,800 अंक के स्तर से नीचे आ गया। रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा से पहले ब्याज दर आधारित बैंकिंग, रीयल्टी और अन्य शेयरों में बिकवाली से बाजार नीचे आया। निवेशकों में अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी के समय को लेकर आशंका है। इसके अलावा निवेशक राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के तहत नीतियों, फ्रांस के चुनाव तथा कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों को लेकर भी अनिश्चय की स्थिति में हैं। एशियाई बाजारों में गिरावट से भी यहां धारणा प्रभावित हुई। डॉलर के मुकाबले रुपया भी 19 पैसे टूटकर 67.41 प्रति डॉलर पर आ गया। इससे भी यहां धारणा प्रभावित हुई।शेयर बाज़ार में तेज़ी पर ब्रेक, पांच सत्रों में पहली बार सेंसेक्स टूटा

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स मामूली बढ़त से खुलने के बाद और बढ़ा, लेकिन बाद में मुनाफावसूली का सिलसिला चलने से अंत में 104.12 अंक या 0.37 प्रतिशत के नुकसान से 28,335.16 अंक पर आ गया। पिछले चार सत्रों में सेंसेक्स 783.32 अंक चढ़ा था। निफ्टी भी 32.75 अंक या 0.37 प्रतिशत के नुकसान से 8,800 अंक के स्तर से नीचे 8,768.30 अंक पर आ गया। कारोबार के दौरान यह 8,809.30 से 8,741.05 अंक के दायरे में रहा। जियोजित बीएनपी परिबा फाइनेंशियल सर्विसेज के अनुसंधान प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘बाजार में इसलिए गिरावट आई क्योंकि नीतिगत दरों में 0.25 प्रतिशत कटौती को बाजार पहले ही मान चुका है। एफओएमसी की दर वृद्धि को लेकर अनिश्चितता, अमेरिकी नीतियों, कच्चे तेल के बढ़ते दाम की वजह से कदम पीछे खींच रहे हैं। इससे मुद्रास्फीति और रुपए की दिशा प्रभावित हो सकती है, जिससे भविष्य में केंद्रीय बैंक के निर्णय पर भी इसका प्रभाव दिख सकता है।’

पिछले चार सत्रों में बाजार में तेजी की मुख्य वजह बाजार अनुकूल बजटीय प्रस्तावों तथा रिजर्व बैंक द्वारा मौद्रिक समीक्षा में दरों में कटौती की उम्मीद रही। सेंसेक्स के 30 शेयरों में 20 नुकसान में रहे, जबकि 10 में लाभ रहा। यूरोपीय बाजारों की शुरुआत कमजोर रही। टाटा मोटर्स में सबसे अधिक 3.52 प्रतिशत का नुकसान रहा। कोल इंडिया का शेयर 2.88 प्रतिशत टूट गया। अन्य कंपनियों में ओएनजीसी, अडाणी पोर्ट्स, ल्यूपिन, गेल, डॉ रेड्डीज, रिलायंस इंडस्ट्रीज और एक्सिस बैंक भी नीचे आए। वहीं दूसरी ओर इन्फोसिस, एलएंडटी, मारुति सुजुकी, एशियन पेंट्स, एचडीएफसी तथा आईटीसी के शेयर लाभ में रहे।

 विभिन्न वर्गों के सूचकांकों में धातु में सबसे अधिक 1.25 प्रतिशत का नुकसान रहा। वाहन, तेल एवं गैस तथा स्वास्थ्य सेवा खंड के सूचकांक भी नीचे आए। मिडकैप में 0.18 प्रतिशत तथा स्मॉल कैप में 0.09 प्रतिशत का नुकसान रहा। अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने कल शुद्ध रूप से 449.52 करोड़ रुपए के शेयर बेचे। एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई कम्पोजिट 0.12 प्रतिशत, जापान का निक्की 0.35 प्रतिशत तथा हांगकांग का हैंगसेंट 0.07 प्रतिशत नीचे आया। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार भी नीचे चल रहे थे।
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button