शरीर को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो खाएं सिर्फ ये 5 तरह के तेल

- in हेल्थ

खाना बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाले तेल का हमारे स्वास्थ्य पर गहरा असर होता है। हाई कोलेस्ट्रॉल और हदयरोग जैसी समस्याओं का एक कारण सही कुकिंग ऑइल इस्तेमाल ना करना भी है। जानिए, कौन से ऐसे तेल हैं जिसमें पका भोजन खाने से दिल सेहतमंद रहता है और शरीर को भी पूरा पोषण मिलता है।नारियल तेल
इसमें पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फाइबर, विटामिन ए, बी, सी और मिनरल प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। ब्लड प्रेशर और दिल के मरीजों के लिए नारियल का तेल बहुत उपयोगी होता है क्योंकि इसमें पोटेशियम की मात्रा अधिक होती है जो दिल की गतिविधियों को सुचारू रूप से कार्य करने में सहायता करती है। इसके अलावा यह कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद करता है जिससे दिल की बीमारियों को खतरा भी कम होता है।

जैतून का तेल
जैतून के तेल में फैटी एसिड की पर्याप्त मात्रा होती है, जो हृदय रोग के खतरों को कम करता है। साथ ही इसमें संतृप्त वसा की मात्रा कम होती है, इससे शरीर में कोलेस्ट्रॉल का संतुलन बना रहता है। साथ ही हृदयाघात का खतरा भी कम हो जाता है। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट भी प्रचुरता मेंे होते है, इसे स्वास्थ्यवर्धक खाद्य तेल कहा गया है।

तिल का तेल
काले और सफेद तिल के बीज से इस तेल को निकाला जाता है। यह मैग्नीशियम, कैल्शियम, प्रोटीन और फास्फोरस का बहुत अच्छा स्रोत है। तिल का तेल स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है। यह उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है। साथ ही कोलेस्ट्रॉल की मात्रा काे संतुलित बनाए रखने में मदद करता है इसलिए तिल के तेल को हृदय रोगियों को लेने की सलाह दी जाती है।

बादाम का तेल
बादाम के तेल का रोजाना प्रयोग करने से हमारा शरीर तंदरूस्त रहता है। बादाम खाने से दिमाग तेज होता है। एक रिसर्च के अनुसार बादाम के तेल का रोजाना प्रयोग बुद्धि और नसों के लिए फायदेमंद साबित होता है। यह पेट की तकलीफों को दूर करने के साथ आंत का कैंसर होने से बचाता है। बादाम तेल के नियमित सेवन से कोलेस्ट्रॉल कम होता है।

सरसों का तेल
सरसों शोध एवं संवर्धन कन्सोर्टियम (एमआरपीसी) के अनुसार सरसों का तेल दिल की बीमारी के जोखिम को 70 प्रतिशत तक कम करता है और संतुलित आवश्यक फैटी एसिड अनुपात से जीवन की गुणवत्ता बढ़ाता है। इसका प्रयोग करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है और शरीर कई तरह के वायरल इंफेक्शन से दूर रहता है।

अलसी का तेल
यह ओमेगा 3 का अच्छा स्त्रोत है। इसमें फाइबर और प्रोटीन भी बहुतायत होते हंै। दिल को दुरुस्त रखने में अलसी का उपयोग काफी कारगर साबित होता है। अनियमित खानपान व वसा युक्त खाने से दिल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। अलसी में पाया जाने वाला ओमेगा-3 फैटी एसिड रक्त नलिकाओं में वसा के जमाव को रोकता है। अलसी का तेल वसा रहित होने की वजह से दिल के लिए भी फायदेमंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

लंबे समय तक स्वस्थ रहने के लिए दूध के साथ मिलाकर पिएं यह एक चीज

दूध हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता