रूसी अरबपति ने 2600 करोड़ रु में बनवाया दुनिया का सबसे बड़ा लग्जरी जहाज

superyacht-1_1442974238मॉस्को. रूस के अरबपति बिजनेसमैन एंड्री इगारेविच मेलनिचेंगो ने दुनिया की सबसे बड़ी पर्सनल याट बनवाई है। इसे मंगलवार को पहली बार टेस्टिंग के लिए उत्तरी जर्मनी के कील में समुद्र में उतारा गया। यह हाइब्रिड फ्यूल पावर से लैस है। इसमें इलेक्ट्रिक और डीजल, दोनों तरह के इंजन हैं। इसमें एक अंडरवाटर ऑब्जर्वेशन रूम भी है। इसकी अधिकतम रफ्तार करीब 40 किलोमीटर प्रति घंटे है।
 
क्या है इसकी खासियत?
* 300 फीट है ऊंचाई इस सबसे बड़े लग्जरी याट की। इसके खंभे दुनिया में सबसे मजबूत स्ट्रक्चर हैं।
 
* 468 फीट लंबा है। इसमें 20 मेहमान और 54 क्रू मेंबर आ सकते हैं।
 
* इसके एक डेक पर हेलिकॉप्टर स्टैंड बना है।
 
* काले कांच पर टच स्क्रीन कंट्रोलिंग डिस्प्ले है।
 
* 8 मंजिला है यह याट।
 
* अंडरवाटर ऑब्जर्वेशन रूम का एरिया 193 वर्गफीट है और इसमें कांच लगे हैं।
 
* 40 सीसीटीवी कैमरे और बम प्रूफ ग्लास से लैस।
 
कौन हैं एंड्री इगारेविच मेलनिचेंगो?
एंड्री इगारेविच मेलनिचेंगो रूस के बड़े अमीरों में एक हैं। इस साल फरवरी तक उनकी कुल प्रॉपर्टी 9 बिलियन अमेरिकी डॉलर (करीब 56853 करोड़ रुपए) थी। 1993 में उन्होंने एमडीएम बैंक शुरू किया था, जो आज रूस के सबसे बड़े प्राइवेट बैंकों में से एक है। शुरुआत में बैंक में एक और हिस्सेदार था। बाद में पूरा मालिकाना अधिकार इगारेविच के पास आ गया। इसके बाद उन्होंने एमडीएम ग्रुप बनाया। उन्होंने सर्बियन कोल एनर्जी कंपनी (SUEK) को भी अपने नाम कर लिया। SUEK रूस की सबसे बड़ी कोल प्रोड्यूसर कंपनी है। 2007 में इंडस्ट्रियल एसेट पर फोकस करने के लिए उन्होंने एमडीएम बैंक के शेयर बेच दिए थे। इसके बाद से ही उन्हें केमिकल टायकून के रूप में जाना जाता है। इगारेविच ने सर्बिया की फैशन मॉडल एलेक्जेंड्रा निकोलिक से शादी की। दोनों की मुलाकात 2003 में हुई थी।
 
क्या-क्या है प्रॉपर्टी?
* रूस के इस अरबपति के पास बोइंग बिजनेस जेट है।
* कैप डि एंटीबेस में अल्टायर नाम का एक विला है, जहां सभी आधुनिक सुविधाएं हैं।
* न्यूयॉर्क में उनके पास 12 मिलियन अमेरिकी डॉलर का एक पेंटहाउस है।
* ब्रिटेन में 40 मिलियन अमेरिकी डॉलर का हरेवूड एस्टेट भी उनके पास है।
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button