रुपये की चाल और वैश्विक संकेतों से तय होगी शेयर बाजार की दिशा

मुंबई । सकारात्मक आर्थिक आंकड़ों के बावजूद विदेशी बाजारों से मिले नकारात्मक संकेतों के दबाव में बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 299.18 अंक यानी 0.78 प्रतिशत लुढ़ककर 38,090.64 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 73.90 अंक यानी 0.64 प्रतिशत लुढ़ककर 11,515.20 अंक पर बंद हुआ। समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान खुदरा महंगाई दर, थोक महंगाई दर और औद्योगिक उत्पादन सूचकांक(आईआईपी) के आंकडों से शेयर बाजार की रौनक लौटी। आंकड़ों के मुताबिक अगस्त में खुदरा महंगाई दर दस माह के निचले स्तर 3.69 प्रतिशत रही जबकि थोक महंगाई दर चार महंगाई के निचले स्तर 4.53 प्रतिशत पर आ गयी। जुलाई के आईआईपी में 6.6 प्रतिशत की तेजी दर्ज की गयी।

हालांकि डॉलर की तुलना में भारतीय मुद्रा के रिकॉर्ड निचले स्तर पर आने और कमजोर वैश्विक संकेतों का प्रभावी अधिक हावी रहा जिससे इसमें साप्ताहिक गिरावट दर्ज की गयी। इस अवधि में रुपया पहली बार 72.69 रुपये प्रति डॉलर के अब तक रिकॉर्ड निचले स्तर तक लुढ़का। आगामी सप्ताह भी रुपये की चाल का प्रभाव शेयर बाजार पर रहेगा। इसके अलावा वैश्विक परिदृश्य पर जारी हलचल और रुपये की गिरावट रोकने की दिशा में सरकार के प्रयासों का भी प्रभाव शेयर बाजार पर दिखेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई बैठक में डॉलर के मुकाबले रुपये में लगातार आ रही गिरावट के कारणों तथा इसे रोकने के उपायों पर चर्चा हुई थी। इसमें रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने प्रस्तुति दी थी।

बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया था कि रुपये में गिरावट को थामने और चालू खाते का घाटा कम करने के लिए पाँच उपाय किये जायेंगे।इन उपायों में गैर-जरूरी उत्पादों का आयात घटाना और निर्यात बढ़ाना शामिल है। विश्लेषकों के मुताबिक सामान्य मानसून और त्योहारी सीजन से पहले उपभोक्ता मांग में सुधार की संभावना और अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में उतार-चढाव का भी असर सेंसेक्स पर रहेगा। अमेरिका और चीन की तनातनी भी विदेशी बाजारों के साथ घरेलू शेयर बाजार को प्रभावित करेगी। आलोच्य सप्ताह के दौरान छोटी और मंझोली कंपनियों में भी बिकवाली का दबाव रहा।

बीएसई का मिडकैप 154.89 अंक की साप्ताहिक गिरावट के साथ 16,349.97 अंक पर और स्मॉलकैप 226.02 अंक की गिरावट में 16,670.93 अंक पर बंद हुआ। समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान शेयर बाजार में चार दिन कारोबार हुआ। गणेश चतुर्थी के अवसर पर गुरुवार को बाजार में कारोबार बंद रहा। सोमवार को विदेशी बाजारों से मिले मिश्रित संकेतों के बीच डॉलर के मुकाबले भारतीय मुद्रा की रिकॉर्ड गिरावट,कच्चे तेल की कीमतों में उबाल और घरेलू स्तर पर इससे मचे सियासी घमासान के दबाव में हुई चौतरफा बिकवाली से घरेलू शेयर बाजार में एक फीसदी से अधिक की गिरावट दर्ज की गयी।

इस दिन सेंसेक्स 467.65 अंक की भारी गिरावट के साथ 38,000 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से लुढ़कता हुआ 37,922.17 अंक पर और निफ्टी 151 अंक टूटकर 11,438.10 अंक पर बंद हुआ। डॉलर के मुकाबले भारतीय मुद्रा के 72.67 रुपये प्रति डॉलर के निचले स्तर पर आने से निवेशकों का उत्साह ठंडा रहा। इसके अलावा पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों के मद्देनजर भारत बंद के आह्वान का भी असर शेयर बाजार पर रहा। मंगलवार को रुपये में जारी गिरावट और अमेरिका तथा चीन के बीच व्यापार युद्ध गहराने की आशंका के दबाव में लगातार दूसरे दिन भारी गिरावट रही। चौतरफा बिकवाली के बीच सेंसेक्स 509.04 अंक यानी 1.34 प्रतिशत लुढ़ककर 37,413.13 अंक पर और निफ्टी 150.60 अंक यानी 1.32 प्रतिशत लुढ़ककर 11,287.50 अंक पर बंद हुआ।

बुधवार को एफएमसीजी, ऊर्जा तथा धातु क्षेत्र की कंपनियों में लिवाली से घरेलू शेयर बाजार में दो दिन बाद रौनक लौट आयी। इस दिन सेंसेक्स 304.83 अंक चढ़कर 37,717.96 अंक पर और निफ्टी 82.40 अंक की बढ़त में 11,369.90 अंक पर बंद हुआ। शुक्रवार को भी तेजी का सिलसिला जारी रहा। अंतरराष्ट्रीय बाजारों से मिले मजबूत संकेतों के बीच थोक महंगाई दर के सकारात्मक आंकड़ों से उत्साहित निवेशकों की जबरदस्त लिवाली से सेंसेक्स 372.68 अंक की बढ़त में 38,090.64 अंक पर और निफ्टी 145.30 अंक की तेजी के साथ 11,515.20 अंक पर बंद हुआ। आलोच्य सप्ताह के दौरान सेंसेक्स की 30 में से मात्र 10 कंपनियां हरे निशान में रहीं। शेष 20 कंपनियों में गिरावट रही। पावरग्रिड के शेयरों की कीमत में सर्वाधिक 2.22 प्रतिशत की साप्ताहिक तेजी दर्ज की गयी।

इसके अलावा वेदांता में 1.93, विप्रो में 1.88, एशियन पेंट्स में 1.04, अदानी पोटर्स में 0.78, एल एंड टी में 0.75, ओएनजीसी में 0.44, इंफोसिस में 0.28, सन फार्मा में 0.14 और एचडीएफसी में 0.07 प्रतिशत की बढ़त रही। हीरो मोटोकॉप्र्स में सर्वाधिक 4.22 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी। इसके साथ ही टाटा मोटर्स के शेयरों की कीमत 3.98, कोल इंडिया की 2.96, टाटा मोटर्स डीवीआर की 2.67, मभहद्रा एंड मभहद्रा की 2.36, आईसीआईसीआई बैंक की 2.06, रिलायंस की 1.88, भारती एयरटेल की 1.83, बजाज ऑटो की 1.57, एचडीएफसी बैंक की 1.39, एक्सिस बैंक की 1.38, मारुति की 1.14, आईटीसी की 1.11, कोटक बैंक की 0.84, टीसीएस की 0.79, टाटा स्टील की 0.59, भहदुस्तान यूनीलीवर की 0.54, भारतीय स्टेट बैंक की 0.50, इंडसइंड बैंक की 0.14 और यस बैंक की 0.11 प्रतिशत लुढ़क गयी।

Loading...

Check Also

बिन्नी बंसल ने बताया 11 साल पहले खुद बनायी अपनी कंपनी से क्यों दिया इस्तीफा...

बिन्नी बंसल ने बताया 11 साल पहले खुद बनायी अपनी कंपनी से क्यों दिया इस्तीफा…

देश की सबसे बड़ी ई-वाणिज्य कंपनी फ्लिपकार्ट के सह-संस्थापक बिन्नी बंसल ने कहा कि वह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com