ये है हनुमानजी का गुप्त मंत्र, इसके जपने से देते हैं सपने में दर्शन

download (6)जीवन में विभिन्न प्रकार की गृहबाधाओं के निदान, सुख, सम्पदा प्राप्ति, अकाल मृत्यु निवारण व आत्मिक शांति के लिए सायंकाल गोधूलि बेला को छोड़कर आराधकों को मंगलवार या शनिवार से भगवान श्रीराम व हनुमानजी का ध्यान करते हुए निम्न मंत्र का 21 बार जाप करना चाहिए-

भर्जनं भव बीजानाम 

अर्जनं सुख सम्पदाम्।

तर्जनं यम दूतानाम् राम रामेति गर्जनम्।

आपदाम् प हरतारं दातारं सुख सम्पदाम्।

लोकाभिरामं श्रीरामम् 

भूयो भूयो नमाम्यहम्।।

मंगलवार या शनिवार को हनुमानजी का ध्यान व जप कम से कम 40 दिन तक घी का अखंड दीप जलाकर करना चाहिए। 

साधना से पांच दिन पूर्व तक न शराब पीएं और न ही मांस खाएं। हो सके तो प्याज व लहसुन से भी परहेज करें। साधक को स्वप्न में बंदर, लाल वस्त्र, लंगूर व काले नाग का दिखना उनकी मनोकामना की सफलता का द्योतक है।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button