यूपी पुलिस: 41610 सिपाहियों की भर्ती में एक और विवाद

jobs-of-sub-inspector-in-uttar-pradesh-56002c250504f_exlstयूपी में 41610 पदों पर कांस्टेबलों की भर्ती के मामले में नया विवाद आ गया है। कुछ अभ्यर्थियों ने यह आरोप लगाते हुए याचिका दाखिल की है कि घोषित पदों के सापेक्ष अधिक अभ्यर्थियों को बुलाया गया, जिससे बोसीसी की कट ऑफ मेरिट प्रभावित हुई है। याचिका पर सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति पीकेएस बघेल ने प्रदेश सरकार से छह सप्ताह में जवाब मांगा है।

उत्तम कुमार और दो अन्य ने याचिका दाखिल कर कहा है कि 41610 पदों पर कांस्टेबलों की भर्ती के लिए आयोजित मुख्य परीक्षा और शारीरिक परीक्षा के बाद 55123 अभ्यर्थियों का परिणाम घोषित किया गया। इन सभी को मेडिकल परीक्षण के लिए बुलाया गया। इसमें सामान्य के लिए 314.9564 कट ऑफ और ओबीसी के लिए 305.9564 कट ऑफ मेरिट थी।

व्हाइटनर लगाने वाले 6254 लोगों को बाहर करने के बाद 55994 अभ्यर्थियों को बुलाया गया जिससे 871 अभ्यर्थियों की संख्या बढ़ गई और कट ऑफ मेरिट बढ़कर 308.5096 हो गई। याचीगण का चयन इससे प्रभावित हुआ है।

 
आईएएस 2015 परीक्षा में वर्ष 2011 बैच के अभ्यर्थियों को एक और मौका देने के मामले में केंद्र सरकार के जवाब से हाईकोर्ट संतुष्ट नहीं है। केंद्रीय लोक सेवा आयोग ने 2011 बैच के ऐसे अभ्यर्थियों को भी एक अवसर देने का निर्णय किया है, जो आयुसीमा पार कर चुके हैं।

अपर सॉलीसिटर जनरल अशोक मेहता ने इस मामले में सोमवार को केंद्र सरकार का पक्ष रखा। आईएएस अभ्यर्थी अनिमेष सिंह ने याचिका दाखिल कर इस निर्णय को चुनौती दी है।

याचिका पर सुनवाई कर रही न्यायमूर्ति अरुण टंडन और न्यायमूर्ति अश्विनी कुमार मिश्र की खंडपीठ ने केंद्र सरकार से पूछा था कि 2011 की परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थियों को ही अतिरिक्त अवसर क्यों दिया जा रहा है।

आयु सीमा में छूट 29 और 30 वर्ष के अभ्यर्थियों को ही देने के पीछे क्या आशय है। केंद्र सरकार की ओर से दी गई सफाई से अदालत ने असंतोष जाहिर किया, कहा कि इसमें उन सवालों के जवाब नहीं हैं जो उन्होंने पूछे हैं। केंद्र सरकार को बेहतर जवाब दाखिल करने का एक और मौका दिया गया है। मामले की सुनवाई एक अक्तूबर को होगी।

 
 

परिषदीय विद्यालयों में 72,825 पदों पर भर्ती के तहत 43 हजार प्रशिक्षु शिक्षकों का परीक्षा परिणाम सोमवार को सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने जारी कर दिया। इसमें 99.76 प्रशिक्षु शिक्षक उत्तीर्ण हुए। प्रदेश भर से 43,179 प्रशिक्षु शिक्षकों का पंजीकरण हुआ था। परीक्षा में 43,139� शामिल हुए। इसमें 43077 उत्तीर्ण और 31 अनुत्तीर्ण हुए। 31 प्रशिक्षु शिक्षकों के परिणाम अपूर्ण हैं। इनके परिणामों को भी जल्द ही जारी किया जाएगा।

अभी तक 58 हजार प्रशिक्षु शिक्षकों को चयनित किया गया है। इनमें से 43179 प्रशिक्षु शिक्षकों की परीक्षा कराकर परिणाम घोषित किए गए। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी नीना श्रीवास्तव का कहना है कि शेष 15 हजार प्रशिक्षु शिक्षकों का डाटा संबंधित जिलों की डायटों से मांगा गया है।

संभावना है कि अक्तूबर में इनकी भी परीक्षा कराकर परिणाम घोषित कर दिए जाएं। 43179 प्रशिक्षु शिक्षकों के परिणाम सभी जिलों की डायटों को भेजे चा चुके हैं। परिणाम घोषित होने के बाद प्रशिक्षु शिक्षक परिषदीय विद्यालयों में मौलिक नियुक्ति की मांग तेज होगी।

इसके पहले भी प्रशिक्षु शिक्षकों का प्रतिनिधि मंडल सचिव बेसिक शिक्षा परिषद संजय सिन्हा से नियुक्ति की मांग को लेकर ज्ञापन सौंप चुका है। टीईटी प्रशिक्षु शिक्षक संघर्ष मोर्चा के मो. अली का कहना है कि अब तो परिणाम भी घोषित हो गए हैं। विद्यालयों में मौलिक नियुक्ति की मांग को लेकर परिषद सचिव से फिर से मुलाकात की जाएगी।

 

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button