माल्‍या का तंज: मुझसे पैसे लेकर मदद कर दो

बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपए लेकर भागे शराब कारोबारी विजय माल्या ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर चार ट्वीट कर तंज कसा है. ट्वीट में माल्या ने कहा, ‘मैं एक बार फिर से दोहराता हूं कि मैंने पीएसयू बैंकों और अन्य सभी लेनदारों का भुगतान करने के लिए कर्नाटक हाई कोर्ट के सामने भुगतान की पेशकश की है. बैंक मेरे पैसे क्यों नहीं लेते? यह पैसे जेट एयरवेज को बचाने में उनकी मदद करेंगे कुछ और नहीं.’

इससे पहले किए गए एक अन्य ट्वीट में माल्या ने लिखा, ‘मैंने किंगफिशर एयरलाइंस में 4 हजार करोड़ रुपए का निवेश कंपनी और उसके कर्मचारियों को बचाने के लिए किया. लेकिन मेरी इस कोशिश को पहचाना नहीं गया और हर संभव तरीके से मेरी आलोचना की गई.  इन्हीं पीएसयू बैंकों ने भारत की सबसे अच्छी एयरलाइंस को बर्बाद कर दिया, जिसके पास बेहतरीन स्टाफ और कनेक्टिविटी थी. एनडीए के दौर में यह दोहरा मापदंड है.’

वहीं, एक माल्या ने अन्य ट्वीट किया,  ‘भाजपा प्रवक्ताओं ने पीएम मनमोहन सिंह को लिखे गए मेरे पत्रों को पढ़कर सुनाया और आरोप लगाया कि यूपीए सरकार के तहत पीएसयू बैंकों ने किंगफिशर एयरलाइंस का गलत तरीके से समर्थन किया था. मौजूदा पीएम को ऐसी ही चिट्ठी लिखने पर मीडिया ने मेरी तीखी आलोचना की. मुझे आश्चर्य है कि एनडीए सरकार के तहत अब क्या बदल गया है.’

माल्या का एक और ट्वीट आया, ‘यह देखकर मुझे बहुत खुशी हुई कि पीएसयू बैंकों ने जेट एयरवेज की मदद की है. इससे नौकरी, कनेक्टिविटी और उद्यम- तीनों ही बचे रहेंगे. काश! ऐसा ही किंगफिशर के लिए किया जाता.’

जेट एयरवेज पर मंडरा रहा है संकट

जेट एयरवेज फिलहाल संकट का सामना कर रहा है. पट्टे पर लिए गए विमानों का किराया नहीं चुकाए जाने के चलते जेट एअरवेज के दो और विमान उड़ान नहीं भर पाए. इस तरह कंपनी के कुल 25 विमान अब उड़ान नहीं भर पा रहे हैं. शेयर बाजार को कंपनी ने यह जानकारी दी है. कंपनी के पास कुल 123 विमानों का बेड़ा है. जिसमें बोइंग 737, बोइंग 777, एयरबस ए330 और एटीआर विमान भी शामिल हैं. कंपनी के विमानों को जमीन पर खड़ा करने का यह क्रम सात फरवरी से जारी है और अब तक उसके कुल 25 विमान खड़े कर दिए गए हैं.

कंपनी इस संबंध में नियमित तौर पर नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) को सूचित कर रही है. जबकि नागर विमानन मंत्रालय और नियामक डीजीसीए ने अब तक इसे लेकर कोई कार्रवाई नहीं की है. इन विमानों के खड़े होने से कितनी उड़ानें रद्द हुई है, इसके बारे में कंपनी ने कुछ नहीं बताया है. औसतन एक बोइंग 737 विमान छह से सात घरेलू उड़ानें रोजाना भरता है.

8 हजार करोड़ रुपये का कर्ज हैं जेट एअरवेज पर

फिलहाल जेट एयरवेज पर कुल 26 बैंकों का कर्ज है. इसमें कुछ प्राइवेट और विदेशी बैंक भी शामिल हैं. पब्लिक सेक्टर बैंक में केनरा बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, सिंडिकेट बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, इलाहबाद बैंक शामिल हैं. अब इस लिस्ट में एसबीआई और पीएनबी का नाम भी जुड़ जाएगा. एयरलाइंस पर करीब 8 हजार करोड़ का कर्ज है. जेट के पायलट पहले ही अल्टीमेटम दे चुके हैं कि अगर 31 मार्च तक उनका बकाया नहीं दिया गया तो वह किसी फ्लाइट को नहीं उड़ाएंगे.  

जेट ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज से बयान में कहा, कि ‘भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के नेतृत्व में जेट के कर्जदाता डेट इंस्ट्रूमेंट्स के जरिये कंपनी में 1,500 करोड़ रुपये की पूंजी डालेंगे. जेट एअरवेज ने यह भी कहा है कि कर्जदाताओं के नेतृत्व में एक ‘अंतरिम मैनेजमेंट कमेटी’ का गठन कर दिया गया है, जो कंपनी के रोजाना के कामकाज और कैश फ्लो का संचालन करेगी.

जेट एयरवेज के कर्जदाताओं ने कंपनी के बोर्ड और प्रबंधन को अपने नियंत्रण में ले लिया है. कर्जदाता कंपनी के लिए एक नया रणनीतिक पार्टनर ढूंढने को लेकर जल्द ही एक ऑक्शन की प्रक्रिया शुरू करेंगी. दूसरी तरफ खबर है कि जेट एयरवेज को आपातकालीन फंड मिलने का रास्ता भी दिख रहा है. इसमें पंजाब नैशनल बैंक और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से 25 साल पुरानी इस एयरलाइंस को प्राथमिकता पर फंड दिया जाएगा. ऋणदाता संघ द्वारा प्राथमिकता पर फंड मिलने से जेट एयरवेज को मदद मिलेगी. अब जब तक कंपनी को बचाने का कोई नया प्लान नहीं बन जाता तब तक यह चलती रह सकेगी.

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com