चुनौतियों से निपटने को भारती एयरटेल तैयार

नई दिल्ली। वोडाफोन-आइडिया के विलय से उत्पन्न चुनौतियों को भांपते हुए देश की दिग्गज मोबाइल ऑपरेटर भारती एयरटेल ने इससे निपटने की तैयारी शुरू कर दी है। एयरटेल न सिर्फ ग्राहक सेवा की गुणवत्ता में सुधार के लिए कमर कस रही है, बल्कि मार्केटिंग व ब्रांडिंग को लेकर भी कंपनी की धार पहले से तेज होगी। चुनौतियों के मद्देनजर कंपनी के पूंजीगत खर्चों में भी अगले वित्त वर्ष के दौरान अच्छी खासी बढ़ोतरी होगी। एयरटेल की तरफ से ग्राहकों को एक अच्छी खबर डाटा सर्विस की दरों में और कटौती के तौर पर भी मिलने के आसार हैं।

 चुनौतियों से निबटने को भारती एयरटेल तैयार

बड़ी खबर: यूपी में योगी यानी मुसलमानों के लिए कयामत

वोडाफोन व आइडिया के बीच विलय की वार्ता के साथ ही एयरटेल ने भारतीय बाजार में अपनी आक्रामक रणनीति को तेज धार देने की तैयारी शुरू कर दी थी। इस बारे में अगले महीने के मध्य तक कुछ बड़ी घोषणाएं होंगी। कंपनी मार्केटिंग व ब्रांडिंग की लंबी अवधि की रणनीति लागू करेगी। अगले तीन वर्षों में इस पर 10,000 करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी। इसके तहत युवा वर्ग में एयरटेल ब्रांड को और मजबूत करने की कोशिश होगी। नेटवर्क की खामियों को दुरुस्त करने की कोशिश को और तेज किया जाएगा।

दूरसंचार क्षेत्र के जानकारों की मानें तो वोडाफोन व आइडिया का विलय एयरटेल के लिए रिलायंस जियो से भी बड़ी चुनौती पैदा कर सकता है। एयरटेल को इन दोनों कंपनियों के बेहद बड़े नेटवर्क व ग्राहक आधार से चुनौती मिलेगी। साथ ही इसे जियो के बेहद आकर्षक टैरिफ (सेवा चार्ज) से भी मुकाबला करना होगा।

ओकला ने दिया कंपनी का साथ

मोबाइल नेटवर्क की स्पीड बताने वाली कंपनी ओकला ने इस बात का खंडन किया है कि उसका आकलन गलत है। उसने एयरटेल के इस दावे का समर्थन किया है कि उसका नेटवर्क सबसे तेज सेवा देता है। एयरटेल इस आकलन के आधार पर अपने नेटवर्क को सबसे तेज बताते हुए विज्ञापन करती है। पिछले दिनों जियो ने इस विज्ञापन और दावे के खिलाफ एडवर्टाइजिंग स्टैंडर्ड काउंसिल ऑफ इंडिया में शिकायत की है। इसमें विज्ञापन को वापस लेने की मांग की गई है।

दूरसंचार मंत्री से मिले बिड़ला व कोलाओ

आदित्य बिड़ला समूह के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला और वोडाफोन ग्रुप के सीईओ विटारियो कोलाओ ने मंगलवार को दूरसंचार मंत्री मनोज सिन्हा से मुलाकात की। उन्होंने सिन्हा के साथ दोनों कंपनियों के विलय सौदे पर चर्चा की। विलय से बनने वाली नई कंपनी एयरटेल को पछाड़ देश की सबसे बड़ी मोबाइल ऑपेरटर बन जाएगी। इस विलय सौदे के चलते आइडिया सेलुलर के शेयरों में गिरावट जारी है। सोमवार को लगभग 10 फीसद लुढ़कने के बाद इसका शेयर मंगलवार को भी करीब पांच फीसद फिसल गया।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button