भारतीय युवकों को ISIS में भर्ती कराने वाले ग्रुप की हुई शिनाख्‍त, महिलाएं भी शामिल

111930-isisएंजेंसी/नई दिल्‍ली : दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी संगठन इस्‍लामिक स्‍टेट (आईएसआईएस) की भारत में नापाक साजिश का एक और सनसनीखेज खुलासा हुआ हुआ है। आईएसआईएस अब विदेशी धरती से भारत में जाल बिछाने की कोशिश कर रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, भारतीय युवकों को आईएसआईएस में भर्ती कराने वाले ग्रुप की शिनाख्‍त हो गई है।  

खुफिया एजेंसियों के सूत्रों के हवाले से ये खबर सामने आई है कि भारतीय युवकों को आईएसआईएस में भर्ती कराने वाले कुल 25 लोगों की शिनाख्‍त हुई है। भर्ती कराने वाले 25 लोगों का ये ग्रुप सोशल साइट्स पर खासा सक्रिय है। ये ग्रुप वाट्स एप्‍प, फेसबुक आदि सोशल साइटों पर सक्रिय है और इसके जरिये युवाओं की भर्ती करता है। ये ग्रुप मुख्‍यत: भारत, श्रीलंका के युवाओं को जोड़ता है। इसमें फिलीपिंस, अर्जेंटीना और श्रीलंका की महिलाएं भी शामिल हैं। फिलीपिंस की महिला आतंकी का नाम केरन और श्रीलंका की महिला आतंकी का नाम एजे बताया जा रहा है।
भारत में आईएसआईएस की गतिविधियों को फैलाने के लिए 25 विदेशी पुरुष और महिला हैंडलर अलग-अलग देशों में बैठकर युवाओं को गुमराह कर रहे हैं। ये हैंडलर भारतीय युवाओं को जिहादी बनने के लिए उकसा रहे हैं। 25 हैंडलर में से पांच महिलाएं हैं, जो फिलीपींस, केन्या, अर्जेंटीना, श्रीलंका जैसे देशों में बैठकर भर्ती के लिए युवाओं को भड़का रही हैं।

गौर हो कि खूंखार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) के लिए भारत से आतंकियों की भर्ती करने वाले मोहम्मद शफी अरमार की कुछ दिनों पहले ड्रोन हमले में मारे जाने की खबर आई थी। वह सीरिया में हुए अमरीकी ड्रोन हमले का शिकार हुआ। शफी (26) कर्नाटक के भटकल का रहने वाला था। भारत में आतंकियों की भर्ती करता था। शफी पिछले एक साल से फेसबुक ग्रुप और वॉट्स एप्‍प जैसी मैसेजिंग एप्‍प के जरिए कम से कम 600-700 युवाओं के संपर्क में था और उसने कई लोगों को आईएसआईएस में शामिल भी कर लिया था। सूत्रों का दावा है कि शफी आईएसआईएस सरगना अबु बक्र अल बगदादी के सीधे संपर्क में था।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button