बोइंग 737 मैक्स 8 विमान में लगे नए सॉफ्टवेयर ने ले ली 157 लोगों की जान

कभी-कभी बहुत छोटी सी चूक जिंदगी और मौत के बीच के फासले को पार कर देती है। ऐसी ही चूक के चलते इथोपियन एयरलाइंस का बोइंग 737 मैक्स 8 विमान हादसे का शिकार हो गया और उसमें सवार सभी यात्रियों व चालक दल के सदस्यों की मौत हो गई। पिछले साल अक्टूबर में इंडोनेशिया में हुए हादसे के बाद यह दूसरा हादसा था। अब तक की जांच में संकेत मिल रहा है कि दोनों हादसों में कारण लगभग एक जैसा ही था। दोनों हादसे बोइंग की ओर से अपने विमान में इस्तेमाल किए गए एक नए सॉफ्टवेयर के चलते हुए हैं। सॉफ्टवेयर को लेकर पायलटों को पर्याप्त प्रशिक्षण नहीं मिलना भी हादसे की बड़ी वजह रहा।बोइंग 737 मैक्स 8 विमान में लगे नए सॉफ्टवेयर ने ले ली 157 लोगों की जान

नया सॉफ्टवेयर बना खतरा 
हादसे के बाद से दुनियाभर में बोइंग के विमान जमीन पर उतार दिए गए हैं। कई एयरलाइंस ने मैक्स 8 विमानों के सौदे भी रोक दिए हैं। बोइंग ने जब 737 मैक्स श्रेणी के विमान बनाए, तब उसका दावा था कि इसमें बड़ा और किफायती इंजन लगाया गया है। इस बड़े इंजन को 737 विमान के लो विंग्स के नीचे लगाया गया। इस जगह पर बड़ा इंजन लगाने से विमान के स्टॉल हो जाने का खतरा था। विमान के स्टॉल हो जाने का मतलब है कि हवा में विमान की उड़ान रुक जाती है और वह नीचे की ओर गिरने लगता है। इस खतरे से बचने के लिए बोइंग ने एमसीएएस (मैन्यूवरिंग कैरेक्टरिस्टिक्स ऑगमेंटेशन सिस्टम) सॉफ्टवेयर तैयार किया। यह सॉफ्टवेयर स्टॉल की स्थिति में विमान को नीचे झुकाने और गति बढ़ाने का निर्देश देता है।

स्‍टॉल होने का खतरा 
विमान में अल्फा वेन नामक एक सेंसर लगा होता है जो एंगल ऑफ अटैक (एओए) को मापता है। यह विमान में एक छोटे से विंग की तरह दिखता है और यह दो तरफ होता है। सेंसर का काम कंप्यूटर को यह बताना है कि विमान किस कोण पर उड़ रहा है। यदि विमान का एओए बहुत ज्यादा हो तो स्टॉल होने का खतरा रहता है। आमतौर पर एओए 15 से 20 डिग्री से नीचे रहता है। यदि सॉफ्टवेयर को यह लगता है कि एओए बहुत अधिक है तो एमसीएएस विमान को नीचे की ओर कर देता है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link

कंप्यूटर की जीत से हार गईं जिंदगियां
अक्टूबर 2018 में इंडोनेशिया में लॉयन एयर का बोइंग 737 मैक्स विमान भी दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। विमान में लगे एमसीएएस सिस्टम का पायलटों को पता नहीं था। हवा में सेंसर ने कंप्यूटर को बताया कि विमान स्टॉल हो रहा है। इस पर कंप्यूटर ने विमान नीचे की ओर कर दिया,जबकि पायलट विमान ऊपर उठाने का प्रयास कर रहा था। इस संघर्ष में कंप्यूटर जीता और लोग मारे गए। कुछ हफ्ते बाद बोइंग ने बताया कि विमान के एओए सेंसर में कुछ गड़बड़ी थी। कंप्यूटर को एक स्विच के जरिये बंद किया जाना चाहिए था। जानकारी नहीं होने से सभी लोग मारे गए ।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button