पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा की एनडीए में वापसी के बाद से नाखुश LJP

पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा की एनडीए में वापसी के बाद गठबंधन के एक और सहयोगी दल लोक जनशक्ति पार्टी में हलचल तेज हो गई है. जीतन राम मांझी के दोबारा एनडीए में शामिल होने के बाद लोक जनशक्ति पार्टी नाखुश है. इसकी मुख्य वजह यह है कि एनडीए में लोक जनशक्ति पार्टी मुख्यतः दलित राजनीति करती है. मगर अब मांझी के वापस एनडीए में शामिल होने से दलित वोट बैंक को लेकर लोक जनशक्ति पार्टी और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा में टकराव की स्थिति पैदा हो गई है.

सवाल उठने लगे हैं कि एनडीए में दलित राजनीति करने वाला बड़ा नेता कौन है? लोक जनशक्ति पार्टी के रामविलास पासवान और उनके बेटे चिराग पासवान या फिर जीतन राम मांझी. पूर्व में भी रामविलास पासवान और जीतन राम मांझी के बीच इस बात को लेकर हमेशा टकराव की स्थिति रही है कि आखिर बिहार में दलित का बड़ा नेता कौन है?

मांझी की एनडीए में एंट्री से परेशान लोक जनशक्ति पार्टी ने अब 7 सितंबर को प्रदेश संसदीय बोर्ड की दिल्ली में बैठक बुलाई है. जहां पर चुनाव को लेकर आगे की रणनीति पर विचार किया जाएगा. इस बारे में लोक जनशक्ति पार्टी ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘दिनांक 7 सितम्बर को लोजपा बिहार संसदीय बोर्ड की बैठक दोपहर 2 बजे नई दिल्ली में रखी गई है. इस बैठक में लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान के साथ बोर्ड के अध्यक्ष विधायक राजू तिवारी व बिहार प्रदेश अध्यक्ष सांसद प्रिन्स राज व अन्य सदस्य मौजूद रहेंगे.’

सूत्रों के मुताबिक लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान इस बैठक में इस बात पर भी विचार करेंगे कि लोक जनशक्ति पार्टी जनता दल यूनाइटेड के उम्मीदवारों के खिलाफ अपने उम्मीदवार उतारे या नहीं? जाहिर है चिराग पासवान, लंबे समय से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से नाराज चल रहे हैं. 

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button