बड़ा खुलासा: पुलवामा हमले के बाद जैश-ए-मोहम्‍मद भारत पर कर रहा है बड़े हमले की की तैयारी, इस बार जैश और तालिबान ने मिलकर..

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद तालिबान के साथ मिलकर भारत पर बड़े आतंकी हमले की साजिश में लगा हुआ है. ख़ुफ़िया एजेंसियों की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पीओके में भारतीय वायुसेना की तरफ से बालाकोट में की गई एयर स्‍ट्राइक से पहले जैश चीफ मौलाना मसूद अजहर ने तालिबान, हक्कानी गुटों के कमांडरो के साथ बैठक की थी. इस बैठक में ये फैसला लिया गया है कि जैश तालिबान के साथ मिलकर भारत और अफ़ग़ानिस्तान में हमला करेगा. ख़ुफ़िया एजेंसियों की इस रिपोर्ट के बाद से सुरक्षा एजेंसियां लगातार जैश की गतिविधियों पर नज़र रखे हुए है.

सुरक्षा से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक, ”जैश चीफ मसूद अजहर और तालिबानी आतंकियों के बीच 15-20 दिसंबर के दौरान पाकिस्तान में बैठक हुई है, जिसमें जैश और तालिबान ने मिलकर एक साथ भारत पर आतंकी हमले का प्लान बनाया है. इनपुट के मुताबिक, तालिबान जैश के आतंकियों को बड़े हमले के लिए ट्रेनिंग देगा, जैसा की अफ़ग़ानिस्तान में तालिबानी आंतकी हमले करते हैं.

ख़ुफ़िया एजेंसी के मुताबिक, जैश ने जहां तालिबान के साथ मिलकर भारत पर हमले की योजना बनाई है, वहीं ये खतरा अफ़ग़ानिस्तान में भी लगातार बना हुआ है. ख़ुफ़िया एजेंसियों को शक है कि अफ़ग़ानिस्तान में भारतीयों ठिकानों और इंस्‍टॉलेश पर तालिबान के हमले का खतरा है. ख़ुफ़िया एजेंसियों के मुताबिक, पाकिस्तान की आइएसआई लगातार जैश, तालिबान और हक्कानी गुटों के साथ बैठक कर रही है, जिससे भारत को अफ़ग़ानिस्तान में चोट पहुंचाई जा सके.

जारी हो सकती है BJP की पहली लिस्ट, 100 उम्मीदवारों में सबसे ऊपर होगा ये चौका देने वाला नाम..

सुरक्षा एजेंसी से जुड़े एक और अधिकारी के मुताबिक, आइएसआई पिछले कई महीनों से जैश, हक्कानी और तालिबान को एक साथ लाना चाहती थी. जब से अमेरिका ने तालिबान के साथ मिलकर अफगनिस्तान में बातचीत का दौर शुरू किया है, आइएसआई इस मौके का फायदा उठाने में लगी है. वो तालिबानी आतंकियों को भारत में हमले के लिए उकसा रही है और इसीलिए आइएसआई ने इन आतंकी गुटों के साथ बैठक कराई है.

पाकिस्तान के बालाकोट में इंडियन एयरफोर्स की तरफ से आतंकी कैंपों पर किए गए हवाई हमले के बाद नई रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान और पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में आतंकियों के 16 टेरर कैंप मौजूद हैं, जहां आतंकियों को भारत पर हमले के लिए ट्रेनिंग दी जा रही है. रिपोर्ट के मुताबिक, 5 टेरर कैंप मुदरीक़े, बहावलपुर और तीन कैंप मनशेरा में मौजूद हैं, जबकि 11 कैंप पीओके में सक्रिय हैं.

ख़ुफ़िया रिपोर्ट के मुताबिक़, पिछले साल इन कैंपों में कुल 560 आतंकियों को पाकिस्तान में ट्रेनिंग दी गई. यहां इन आतंकियों को आईईडी से लेकर गहरे पानी में ट्रेनिंग दी जा रही है, जिससे वो समुद्र के जरिये भारत पर हमले कर सकें. 

पीओके के जिन आतंकी कैंपों में ट्रेनिंग दी जा रही है, उनके नाम हैं बोई, मुजफ्फराबाद, कोटली, बरनाला, लाका-ए-गैर, शेरपाई, देवलीन, खालिद बिन वालिद, गरही और दुपट्टा कैंप. ये सभी जो ख़ुफ़िया एजेंसियों के निशाने पर हैं.

पाकिस्तान के बालाकोट में इंडियन एयरफोर्स की तरफ से आतंकी कैंपों पर किए गए हवाई हमले के बाद नई रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान और पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में आतंकियों के 16 टेरर कैंप मौजूद हैं, जहां आतंकियों को भारत पर हमले के लिए ट्रेनिंग दी जा रही है. रिपोर्ट के मुताबिक, 5 टेरर कैंप मुदरीक़े, बहावलपुर और तीन कैंप मनशेरा में मौजूद हैं, जबकि 11 कैंप पीओके में सक्रिय हैं.

ख़ुफ़िया रिपोर्ट के मुताबिक़, पिछले साल इन कैंपों में कुल 560 आतंकियों को पाकिस्तान में ट्रेनिंग दी गई. यहां इन आतंकियों को आईईडी से लेकर गहरे पानी में ट्रेनिंग दी जा रही है, जिससे वो समुद्र के जरिये भारत पर हमले कर सकें. 

पीओके के जिन आतंकी कैंपों में ट्रेनिंग दी जा रही है, उनके नाम हैं बोई, मुजफ्फराबाद, कोटली, बरनाला, लाका-ए-गैर, शेरपाई, देवलीन, खालिद बिन वालिद, गरही और दुपट्टा कैंप. ये सभी जो ख़ुफ़िया एजेंसियों के निशाने पर हैं.

वैसे देखा जाए तो बालाकोट में जैश के जिस कैंप पर भारतीय वायुसेना ने हमला किया है, उसके बारे में ख़ुफ़िया एजेंसियों ने हमले से काफी जानकारी इकट्ठा की थी. रिपोर्ट में कहा गया था कि कैंप में 300 के करीब मोबाइल कनेक्शन एक्टिव हैं और इन कैंपों में 300-350 आतंकी हर वक़्त ट्रेनिंग लेते हैं. इन्ही ख़ुफ़िया जानकारियों के आधार पर एयरफोर्स ने एयर स्ट्राइक की थी.

हमले के बाद सैटेलाइट इमेज से खुलासा हुआ है कि बालाकोट पर किया गया हमला बेहद सटीक था और हमले में 5-6 बिल्डिंग पूरी तरह तबाह हो गई है.

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button