पहले उसने मेरी स्कर्ट में डाल हाथ और फिर मेरी जांघ के पास से शुरू किया… लड़की ने ऐसी बयां की अपनी दर्द भरी कहानी…

किसी महिला के लिए उत्‍पीड़न का अनुभव हमेशा के लिए उसकी खुशियों की हत्‍या किए जाने जैसा होता है। इन्‍हीं उत्‍पीड़न के प्रति महिलाओं को जागरूक करने के लिए लंदन की रहने वाली एक युवती ने फोटो सीरिज जारी किया है। युवती का नाम एलिजा हैच (23) हैं और उसने यह सीरिज सड़कों और गलियों में हो रहे रोजाना की छेड़खानी से तंग आकर शुरु किया है।

Loading...

हैच के साथ  साहीथ उसकी फ्रेंड्स भी इस सीरिज का हिस्‍सा हैं क्‍योंकि उन्‍होंने भी उत्‍पीड़न के इस दर्द को सहा है। हैच ने इंस्‍टाग्राम पर एक अकाउंट बनाया है जिसमें पूरी दुनिया भर से छेड़खानी के किस्‍से आते हैं। महिलाएं बताती हैं कि किस तरह वो उत्‍पीड़न की शिकार हुईं। सीरिज का नाम चियर अप लव (Cheer Up Luv) है। इस फोटो सीरिज में सभी प्रकार के उत्‍पीड़न की कहानी है। कुछ कहानियां तो बेहद चौकाने वाली हैं। तो आईए आपको कुछ कहांनियां बताते हैं।

लंदन की रहने वाली ओलीविया ने इस सीरिज में उत्‍पीड़न की अपनी कहानी बयां की है। ओलीविया ने बताया कि वो जब 14 साल की थीं तो एक दिन सीढि़यों से उतरते वक्‍त एक अंजान शख्‍स ने उनके स्‍कर्ट के अंदर हाथ डाल दिया था।

पोर्न स्टार मिया खलीफा के ब्रेस्ट को बड़ा नुकसान, अब ऐसे हो रही है रिकवरी

मुझे देखते हुए कई मर्दों ने किया हस्‍तमैथुन

लंदन की ही रहने वाली एक महिला इदिल ने अपनी कहानी शेयर करते हुए बताया कि 14 से 16 साल की उम्र के बीच कई मर्दों ने उसे देखकर हस्‍तमैथुन किया। इदिल ने बताया कि यह अनुभव ऐसा था जैसे की कोई आपके शरीर पर धारदार चीज से हमला कर रहा हो। कुछ ऐसी ही कहानी न्‍यूयॉर्क की रहने वाली गिना ने शेयर किया है। गिना ने बताया कि ट्रेन में उन्‍हें देखकर एक व्‍यक्ति उनके सामने ही हस्‍तमैथुन करने लगा था। उस वक्‍त उनकी उम्र 16 साल थी।

ट्रेन में गलत जगह टच कर रहा था एक आदमी
 

पेरिस की रहने वाली जूलियट ने अपनी कहानी शेयर की और बताया कि ट्रेन में सफर के दौरान एक आदमी ने उनके हिप्‍स को सहला रहा था। ट्रेन में जगह कम थी इसलिए पहले उन्‍हें इसका एहसास नहीं हुआ लेकिन जब वो आदमी हिप्‍स के नीचे जाने लगा तो उन्‍हें समझ आया। उस वक्‍त जूलियट की उम्र 19 साल थी।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com