पब्लिक को सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए संचालित जिला योजना तैयार, मंजूरी के लिए प्रभारी मंत्री का इंतजार

पब्लिक को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए संचालित जिला योजना की कार्ययोजना तैयार कर ली गई है। लेकिन, अभी प्रभारी मंत्री का समय न मिलने से बैठक की तिथि तय नहीं हो सकी है।

Loading...

जिले में विकास को लेकर वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए 409 करोड़ रुपये की कार्ययोजना तैयार की गई है। प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में होने वाली बैठक में कार्ययोजना का अनुमोदन होने के बाद बजट के लिए नियोजन विभाग को भेजा जाएगा। 43 कार्यक्रमों में सड़क, बिजली, पानी के साथ ही स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार से जुड़े कार्यक्रम भी शामिल हैं। गत वर्ष बैठक 15 जून को बुलाई गई थी, लेकिन इस बार बैठक होती इससे पहले प्रभारी मंत्री बदल गए। अब नए प्रभारी मंत्री से अफसर संपर्क साधने का दावा कर रहे हैं। इनसेट

बीते वर्ष मिला ज्यादा बजट

– वित्तीय वर्ष 2018-19 में 406 करोड़ रुपये के कार्ययोजना की मंजूरी मिली थी। शासन ने 13 कार्यक्रमों के लिए कोई बजट नहीं दिया, लेकिन मनरेगा व स्वच्छता अभियान में बजट की बारिश कर दी। इससे स्वीकृति के सापेक्ष करीब 415 करोड़ रुपये आवंटित कर दिए गए। अगस्त में बदल गए प्रभारी मंत्री

– मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वर्ष 2017 में भूमि विकास एवं जल संसाधन विकास विभाग के राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभारी उपेंद्र तिवारी को जिले का प्रभारी मंत्री नामित किया था। गत माह किए गए बदलाव में यह जिम्मेदारी खादी ग्रामोद्योग मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह को सौंपी गई है।

क्या होंगे कार्य

-सड़कों का निर्माण व मरम्मत

-मनरेगा में रोजगार सृजन व विकास

-बेघर जरूरतमंदों को आवास

-शौचालयों का निर्माण

-स्वास्थ्य, शिक्षा, खेलकूद, पर्यटन स्थलों का विकास आदि।

इनसेट

जिला योजना की कार्ययोजना तैयार हो चुकी है। इस बार लोकसभा चुनाव के कारण बैठक में बिलंब हुआ है। गत माह प्रभारी मंत्री बदल गए, ऐसे में नए प्रभारी मंत्री से बैठक के लिए समय लेने का प्रयास किया जा रहा है।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *