नौकरी के नाम किराए की कोख का खेल, मना करने पर जबरन किया जाता था दुष्कर्म

नई दिल्ली। निहाल विहार इलाके में चल रही एक प्लेसमेंट एजेंसी में महिलाओ व युवतियों को नौकरी दिलाने के नाम पर दूसरे राज्यों से बुलाया जाता था और यहां पहुंचने पर उन्हें बंधक बनाकर उन पर इस बात का दबाव बनाया जाता था कि वे अपनी कोख किराए पर दें।नौकरी के नाम किराए की कोख का खेल, मना करने पर जबरन किया जाता था दुष्कर्म

दिल्ली महिला आयोग की टीम से मिली सूचना के आधार पर पुलिस ने प्लेसमेंट एजेंसी के कार्यालय पर छापा मारा वहां से छह लड़कियों को मुक्त कराया। पुलिस ने एजेंसी चलाने वाली महिला को गिरफ्तार किया है। महिला की पहचान आरती के रूप में हुई है।

दिल्ली महिला आयोग के पदाधिकारी ने बताया कि बुधवार दोपहर को दो महिलाएं दिल्ली महिला आयोग की महिला पंचायत काउंसलर के साथ आयोग के ऑफिस पहुंची। एक महिला ने खुद को झारखंड व दूसरी ने पश्चिम बंगाल की निवासी बताया।

 

झारखंड की महिला ने बताया कि उसके गांव का एक एजेंट विलेंद्र साहू कुछ महीने पहले नौकरी दिलाने के बहाने से उसे दिल्ली ले आया। यहां उसे शकूरपुर स्थित अपने प्लेसमेंट एजेंसी के ऑफिस में रखा। उसका मोबाइल फोन और आधार कार्ड छीन लिया। कुछ दिन बाद उसे निहाल विहार स्थित आरती प्लेसमेंट एजेंसी के पास छोड़ दिया गया। इस प्लेसमेंट एजेंसी को आरती और उसका पति बाबूराज चलाते हैं।

महिला ने बताया कि बाबूराज और आरती ने उससे कहा कि तुम अपनी कोख किराए पर दो। जब इस महिला से मना कर दिया तो इसके साथ कई दिन तक मारपीट की गई। महिला ने आरोप लगाया कि उसके साथ दुष्कर्म भी किया गया। आरती ने प्लेसमेंट एजेंसी के ऑफिस में उसे कैद कर लिया।

पश्चिम बंगाल की महिला ने बताया कि उसके गांव की एक औरत उसे दिल्ली में काम दिलाने के नाम पर आरती और बाबूराज के पास छोड़ कर चली गई। बाबूराज ने कुछ दिन तक एक कोठी में काम करवाया, और फिर उसे प्लेसमेंट एजेंसी के ऑफिस में लाकर बंद कर दिया।

ऑफिस में इन दोनों महिलाओं के अलावा छह और लड़कियां व महिलाएं बंद थी। दिल्ली महिला आयोग के अधिकारी ने बताया कि जो महिलाएं आयोग के दफ्तर में पहुंची थीं उन्होंने बताया कि चंद दिन पहले बाबूराज व उसकी पत्नी एजेंसी के ऑफिस में बंद एक गर्भवती लड़की को इलाज के लिए अस्पताल ले जा रहे थे तो वे दरवाजा बंद करना भूल गए। वे हिम्मत जुटाकर वहां से भाग निकली और अपने रिश्तेदार के यहां पहुंच गई। वहां से ये दिल्ली महिला आयोग की महिला पंचायत प्रोग्राम की सलाहकार के पास पहुंची।

पुलिस और आयोग की टीम ने मिलकर निहाल विहार स्थित प्लेसमेंट कार्यालय पर छापा मारा। पुलिस अधिकारी का कहना है कि यह पूरा मामला किराए के कोख से जुड़े कारोबार से जुड़ा है। पुलिस पूरे प्रकरण की तह मे जाने का प्रयास कर रही है। 

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button