नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने CM योगी से की भेंट, पेश किया विकास कार्य का ब्यौरा

उत्तर प्रदेश के एक दिनी दौरे पर लखनऊ पहुंचे नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ से भेंट की। लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ ने राजीव कुमार के साथ भेंट के दौरान उनके समक्ष उत्तर प्रदेश में चल रहे विकास कार्य का ब्यौरा पेश किया।

Loading...

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ उनके सरकारी आवास पर भेंट की। मुख्यमंत्री ने उन्हें बताया कि राज्य सरकार बौद्ध धर्म के केंद्र के रूप में विख्यात सारनाथ में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की दिशा में काम कर रही है। बुंदेलखंड में घरों में पाइप पेयजल पहुंचाने के लिए भी काम शुरू हो गया है। राज्य सरकार सभी को बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने के लिए भी प्रयासरत है। सरकार की कोशिश है कि हर दो जिलों के बीच एक मेडिकल कॉलेज जरूर हो। इस दौरान सीएम ने बताया कि सरकार और जनता के सहयोग से मनरेगा के तहत की दस नदियों को फिर से जीवन दिया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नीति आयोग उपाध्यक्ष को बताया कि राज्य सरकार ने अभी 14 मेडिकल कॉलेज खोलने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में निवेश और उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भी कोशिशें जारी हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि वर्षा जल संचयन योजना को अनिवार्य कर दिया गया है। इसके तहत प्रदेश में तालाब के साथ कुंआ का कायाकल्प और पुनरोद्धार किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने नीति आयोग उपाध्यक्ष को बताया कि प्रदेश में 10 नदियों के पुनरोद्धार का काम भी तेजी से चल रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि आयुष्मान भारत योजना के तहत प्रदेश में 1.180 करोड़ लाभार्थियों को इसका लाभ दिया गया है। योजना से वंचित 10.56 लाख लोगों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत इलाज की सुविधा दी जा रही है।

इनकी मुलाकात में प्रदेश में चल रही विकास की तमाम योजनाओं पर विस्तार से चर्चा हुई। विकास के मुद्दों के साथ ही प्रदेश के आठ ऐसे जिलों पर भी विचार किया गया, जहां विकास की संभावनाएं हैं। इसके अलावा सारनाथ में पर्यटन के बढ़ावे, प्रदेश में औद्योगिक निवेश और बुंदेलखंड में पानी की सप्लाई स्कीम प्रमुख मुद्दे रहे। बुंदेलखंड में पानी की सप्लाई स्कीम के तहत सीएम योगी आदित्यनाथ ने बताया कि पुराने कुएं और तालाबों को भरने का काम किया गया है। यही नहीं वर्षा जल संचयन को अनिवार्य किया गया है। सीएम ने बताया कि परिवार, समाज और राष्ट्र की महत्ता को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार स्वास्थ्य के क्षेत्र में बेहतर काम कर रही है। प्रदेश में 14 नए मेडिकल कॉलेज स्थापित करने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा गया है। अगर प्रस्ताव को शत-प्रतिशत मंजूरी मिल जाती है तो प्रदेश के हर दो जिलों में एक मेडिकल कॉलेज मिल जाएगा। इसके अलावा सरकार लगातार ग्रामीण इलाकों में डॉक्टरों की कमी को पूरा करने का प्रयास कर रही है।

सीएम योगी ने बताया कि सरकार उत्तर प्रदेश में निवेश का माहौल तैयार कर रही है। जिससे उद्योग में लगातार निवेश को रहे हैं। निवेश को बढ़ाने के लिए लगातार कार्य हो रहे हैं। बुंदेलखंड में पेयजल योजना को घर-घर तक पहुंचाया जा रहा है। हर घर नल योजना के तहत सभी घरों में स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति पर सरकार काम कर रही है। उन्होंने जल संरक्षण को लेकर भी सरकार बेहतर कार्य कर रही है, जिसमें पुराने कुंआ व तालाबों का कायाकल्प किया जा रहा है। यही नहीं वर्षा जल संचयन को अनिवार्य कर दिया गया है। आय़ुष्मान योजना के तहत 1.18 करोड़ लाभार्थियों को सुविधा दी गई है। इससे वंचित रहने वाले 10.56 लाख लोगों को मुख्यमंत्री जन अरोग्य योजना में सुविधा प्रदान की गई है।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *