टूट की खबरों के बीच एक बार फिर से महागठबंधन के नेता एकसाथ एक मंच पर दिखे….

महागठबंधन में टूट की खबरों के बीच शनिवार को एक बार फिर एक मंच पर महागठबंधन की एकता दिखी। कार्यक्रम था राम मनोहर लोहिया की पुण्यतिथि का, इस कार्यक्रम में महागठबंधन के घटक दल के सभी नेता एक साथ एक मंच पर दिखे और बिहार की एनडीए सरकार की नाकामी को उजागर किया।

Loading...

तेजस्वी की फिसली जुबान 

इस कार्यक्रम में मंच से तेजस्वी यादव ने जब संबोधित करना शुरू किया तो बार-बार उनकी जुबान फिसलती गई। वो राम मनोहर लोहिया की 52वीं पुण्यतिथि पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे थे लेकिन बार-बार-बार 92वीं जयंती बता रहे थे। एेसा लग रहा था कि तेजस्वी भाषण देने के लिए अपनी तैयारी पूरी कर नहीं आये थे।

ना भाजपा से दोस्ती ना ही नीतीश की महागठबंधन में होगी वापसी 

तेजस्वी ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की महागठबंधन में कभी वापसी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि मेरे चाचा पलटूराम को अब पलटने से भी महागठबंधन में जगह नहीं मिलने वाली है। भाजपा से दोस्ती के सवाल पर तेजस्वी ने कहा, लालू जी के बाल सफेद हो गए, मेरे पिताजी ने भाजपा का रथ रोका था। अब हम भी भाजपा या RSS से न डरेंगे, झुकेंगे या कभी समझौता करेंगे। भाजपा से ना कोई समझौता ना हुआ है और ना ही भविष्य में कभी होगा।

नीतीश से मांगा इस्तीफा 

तेजस्वी ने बिहार में लगातार हो रहे अपराध, हत्या और बलात्कार की घटनाओं पर बिहार की नीतीश सरकार को घेरा और कहा कि ये सरकार पूरी तरह से विफल साबित हुई है। पटना में जलजमाव के मामले पर तेजस्वी ने नीतीश कुमार को घेरा और पूछा कि मुख्यमंत्री  नीतीश कुमार से पूछिए उनका 15 साल का विकास कहां है? पटना नगर निगम में 400 करोड़ का घोटाला हुआ है। उन्होंने कहा कि नैतिकता के आधार पर अब तो नीतीश कुमारजी को इस्तीफा दे देना चाहिए।

ईगो छोड़ें महागठबंधन के नेता

तेजस्वी यादव ने मंच से महागठबंधन के नेताओं को संदेश देते हुए कहा कि सबको ईगो छोड़कर साथ आना चाहिए, तभी हम इस एनडीए का मुकाबला कर पाएंगे। इस तरह के बिखराव का विरोधी फायदा उठाएंगे और हमारी कमजोरी आने वाले समय में सबके लिए घातक साबित होगी। तेजस्वी ने इसके साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव Ballot Paper पर करवाने की भी मांग की।

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा-इस लड़ाई में विष पीने को भी हूं तैयार

मंच से कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने इस मौके पर कहा कि अगर इस लड़ाई में मुझे विष भी पीना पड़े तो मैं पी लूंगा पर लोगों तक अमृत पहुंचाऊंगा। ज्यूडिशियरी में जजों की नियुक्ति पर कुशवाहा ने कहा कि देश मे केवल 300-400 परिवार के लोग ही जज बन रहे, इससे बाहर निकलने की जरूरत है।उन्होंने सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के जजों की नियुक्ति प्रतियोगिता परीक्षा से करवाने की मांग की।

कुशवाहा जलजमाव और डेंगू को लेकर बिहार की नीतीश सरकार को घेरा और कहा कि दावा काफी किया गया था,  लेकिन आज परिणाम सबके सामने है। सरकार ने अपने दायित्व का निर्वहन नहीं किया, जिससे राज्य में चमकी बुखार से कई बच्चों की मौत हो गई।

बाढ़ और जलजमाव ने सरकार के विकास कार्य की पोल खोलकर रख दी है। इन सबसे सरकार की नाकामी झलकती है। लगातार राजनीतिक कार्यकर्ताओं की हत्या हो रही है, राज्य में मॉब लिंचिंग की घटनाएं ज्यादा बढ़ गई है और सरकार सुशासन का राग अलापती है। इस सरकार के सुशासन का नारा बेकार साबित हो रहा है।

 पटना के बापू सभागार में आयोजित था कार्यक्रम

राम मनोहर लोहिया की पुण्यतिथि के कार्यक्रम का आयोजन पटना के बापू सभागार में आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतनराम मांझी, रालोसपा के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा, वीआइपी के अध्यक्ष मुकेश सहनी एक साथ एक मंच पर साथ दिखे।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *