जानिए क्या होता हैं त्रिफला चूर्ण के सेवन से लाभ…

- in हेल्थ

त्रिफला एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है. इस अद्भुत जड़ी बूटी का उपयोग हजारों सालों से भारत में आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जा रहा है. त्रिफला ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है जो शरीर का कायाकल्प कर सकती है. त्रिफला के सेवन से काफी फायदें हैं. त्रिफला चूर्ण महत्वपूर्ण औषधि है यह केवल कब्ज दूर करने ही नहीं बल्कि कमजोर शरीर को ऊर्जा देने में भी उपयोग किया जा सकता है. यह हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और अल्सरेटिव कोलाइटिस का इलाज करने के लिए भी प्रयोग किया जाता है. त्रिफला का शाब्दिक अर्थ है ‘तीन फल’, यानी कि त्रिफला तीन फलों का मिश्रण है. यह तीन फल हैं, आवंला, हरड़ और बहेड़ा. त्रिफला चूर्ण बनाने के लिए तीनों फलों को धूप में सूखा कर पीस लें. कपड़े से छानकर कांच की बोतल में रख लें. त्रिफला लगभग हर प्रकार के रोग में लाभदायक है.जानिए क्या होता हैं त्रिफला चूर्ण के सेवन से लाभ...

त्वचा के लिए लाभदायक है त्रिफला
त्रिफला में रक्तशोधक गुण पाया जाता है जो त्वचा के लिए लाभदायक है. यह त्वचा से दूषित पदार्थों को हटाता है. इसमें आंवला होने के कारण कोलेजन के निर्माण में सहायक होता है. शहद के साथ इसका इस्तेमाल करने पर त्वचा संबंधित रोग दूर हो जाते हैं.

त्रिफला कब्ज को दूर भगाता है
त्रिफला का प्रयोग खासतौर पर कब्ज दूर करने के लिए किया जाता है. रात में सोने से पहले 5 ग्राम त्रिफला चूर्ण को हल्के गर्म पानी या दूध के साथ लेने से कब्ज दूर होती है. साथ ही त्रिफला चूर्ण को इसबगोल के साथ लेना भी फायदेमंद है.

विरेचक का काम करता है त्रिफला
त्रिफला पाचन तंत्र को मजबूत करता है. साथ ही आंतों की सफाई करता है. यह एक विरेचक है जो मल को निकालने में सहायक होता है. शरीर में भोजन पचाने और आमदोष को भी हटाता है. आयुर्वेद में आमदोष को सभी प्रकार के रोगों का कारण माना गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

प्रेगनेंसी में इन बीमारियों से बचने के लिए अपनाएं ये डाइट प्लान

प्रेगनेंसी के दौरान एक महिला के शरीर में