जंगली भैंसे ने दी मुसीबत से जूझने की सीख

wildbuffalo_25_10_2015जंगल में भैंसों का एक झुंड विचर रहा था। तभी एक बछड़े ने अपने पिता से पूछा – ‘क्या इस जंगल में ऐसी कोई चीज है, जिससे हमें डरने की जरूरत है?” यह सुनकर जंगली भैंसे ने कहा – ‘बेटे, शेरों से सावधान रहना।” तब बछड़ा बोला – ‘हां, मैंने भी सुना है कि शेर बड़े खतरनाक होते हैं। अगर कभी मुझे शेर दिखा तो मैं तुरंत वहां से दौड़ लगा दूंगा।”

यह सुन भैंसे ने उसे टोका – ‘नहीं-नहीं! ऐसा करने से तो तुम मुश्किल में फंस जाओगे।” बछड़े को ये बात अजीब लगी। वह बोला – ‘ऐसा क्यों? शेर को सामने देख भागने पर मैं मुश्किल में कैसे फंस जाऊंगा?” भैंसे ने उसे समझाया – ‘यदि तुम भागोगे तो शेर तुम्हारा पीछा करेंगे। भागते समय वे तुम्हारी पीठ पर आसानी से हमला कर तुम्हें नीचे गिरा सकते हैं और एक बार तुम गिर गए तो मौत पक्की समझो।”

यह सुन बछड़े ने घबराते हुए पूछा – ‘तो ऐसी स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?” भैंसे ने कहा – ‘अगर तुम कभी भी शेर को देखो, तो अपनी जगह डटकर खड़े हो जाओ और ये दिखाओ कि तुम जरा भी डरे हुए नहीं हो। शेर को अपने अपने नुकीले सींग दिखाओ और खुरों को जमीन पर पटको। अगर तब भी शेर न जाए तो धीरे-धीरे उसकी तरफ बढ़ो और अंत में तेजी से पूरी ताकत के साथ उस पर हमला कर दो।”

यह सुन बछड़ा बोला – ‘ऐसा करने में तो बहुत खतरा है। अगर शेर ने पलटकर मुझ पर हमला कर दिया तो?” इस पर भैंसे ने कहा – ‘बेटे, अपने चारों तरफ देखो। क्या दिखाई देता है?” बछड़े ने देखा कि उसके चारों ओर ताकतवर भैंसों का बड़ा-सा झुंड था। तब भैंसा उससे फिर बोला – ‘कभी भी तुम्हें डर लगे, तो ये याद रखो कि हम सब तुम्हारे साथ हैं। अगर तुम मुसीबत का सामना करने के बजाय भाग खड़े होते हो, तो हम तुम्हे नहीं बचा पाएंगे। लेकिन यदि तुम साहस दिखाते हो और मुसीबत से लड़ते हो तो हम मदद के लिए ठीक तुम्हारे पीछे खड़े होंगे।”

यह सुन बछड़े ने गहरी सांस ली और अपने पिता को इस सीख के लिए धन्यवाद दिया। हमारी जिंदगी में भी कुछ ऐसी समस्याएं होती हैं जिनसे हम भाग जाना चाहते हैं, लेकिन वे समस्याएं हमारा पीछा नहीं छोड़तीं। इसलिए समस्याओं का सामना करें। जब आप जूझने का हौसला दिखाएंगे, तो समस्याएं खुद-ब-खुद कमजोर पड़ जाएंगी।

 
 
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button