Home > जीवनशैली > पर्यटन > खूबसूरती के साथ अलग संस्कृति और इतिहास झारखंड को बनाता है बहुत ही खास

खूबसूरती के साथ अलग संस्कृति और इतिहास झारखंड को बनाता है बहुत ही खास

झारखंड, भारत का 28वां राज्य है। जिसकी स्थापना 15 नवंबर 2000 को हुई थी। ‘लैंड ऑफ फॉरेस्ट’ के नाम से मशहूर झारखंड घूमने के लिए बहुत ही अच्छी जगह है। वाइल्डलाइफ के शौकिनों के लिए तो यहां इतने ऑप्शन्स मौजूद हैं जो आपको एक्सपीरिएंस के साथ फोटोग्राफी का भी बेहतरीन मौका देते हैं। जंगल, पहाड़, झरनें, म्यूजियम, पक्षी अभ्यारण्य और थोड़ी-थोड़ी दूर पर बने मंदिर खूबसूरती के साथ यहां के पर्यटन को भी बढ़ाने का काम करते हैं। जो यहां की अर्थव्यवस्था में बहुत ही बड़ा योगदान है।खूबसूरती के साथ अलग संस्कृति और इतिहास झारखंड को बनाता है बहुत ही खास

समुद्रतल से 651 मीटर की ऊंचाई पर स्थित झारखंड 79,714 स्क्वेयर किमी में फैला हुआ है। यहां की कुल जनसंख्या 32,988 है। झारखंड की अलग संस्कृति और जीवनशैली की वजह यहां बड़ी संख्या में निवास करने वाले आदिवासी हैं।

झारखंड में घूमने वाली जगहें

झारखंड में बहुत सारी जगहें हैं जहां अकेले आकर भी आप बोर नहीं हो सकते। पक्षियों और जानवरों को देखने के लिए बेतला, हजारीबाग नेशनल पार्क और दलमा सेंचुरी अच्छी जगहें हैं जहां आप जानवरों को देखने के साथ ही इन्हें कैमरे में भी कैद कर सकते हैं। इसके अलावा रजरप्पा, छिनमस्तिके मंदिर, पंचघाघ वॉटरफॉल, दशम वॉटरफॉल, गौतम धारा, पतरातू डैम, जोन्हा आदि घूमने लायक हैं।

रांची

रांची महज झारखंड की राजधानी नहीं बल्कि एक अच्छा ट्रैवल डेस्टिनेशन है। जहां कई सारे खूबसूरत वॉटफॉल्स हैं। ‘मैनचेस्टर ऑप ईस्ट’ के नाम से ही मशहूर रांची खनिज संपन्न राज्य है। रांची आकर आप हुंडरू, दसम, जोन्हा वॉटरफॉल, बिरसा जूलोजिकल पार्क, रांची लेक, कांके डैम और जगन्नाथ मंदिर जैसी दूसरी जगहों को भी देख सकते हैं।

देवघर

देवघर धार्मिक स्थल के तौर पर मशहूर है। बाबा बैद्नाथ, जो भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इसके दर्शन आप यहां आकर कर सकते हैं। इसके अलावा यहां त्रिकूट हील्स, शिवगंगा, सतसंग आश्रम, कुंडेश्वरी आदि जगहों को आप देख सकते हैं।

जमशेदपुर

हरियाली, झरने-पहाड़ों के बीच मानवनिर्मित आधुनिक साज-सज्जा वाले इस शहर में आने के बाद आप पाएंगे कि जैसे यहां भारत का लघु-रूप बसता है। यहां की साफ-सुथरी गलियां और सड़कें बताती हैं कि यह सचमुच किसी बड़ी प्रबंधकीय क्षमता वाले शख्सियत की देन होगी। हरे-भरे पहाड़ पर्यटन स्थलों की भरमार के चलते हर साल बड़ी संख्या में पर्यटक यहां सुकून के पल गुजारने और आनंद लेने आते हैं। जमशेदपुर में आप बिहार, उत्तर प्रदेश, पंजाब, गुजरात से लेकर दक्षिण भारत के तमिलनाडु, केरल तक के लोगों और उनकी संस्कृति को देख सकते हैं।

नेतरहाट

नेतरहाट, झारखंड का बहुत ही खूबसूरत हिल स्टेशन है। समुद्र तल से 1128 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस जगह को द क्वीन ऑफ छोटा नागपुर भी कहते हैं। यहां का मौसम बहुत ही सुहाना होता है। गर्मियों में यहां बहुत ही भारी भीड़ देखने को मिलती है।

पलामू

पलामू की खूबसूरती देश-विदेश के टूरिस्टों को अपनी ओर आकर्षित करती है। यहां मौजूद वाइल्डलाइफ सेंचुरी औऱ नेशनल पार्क नेचर लवर्स को एक्सप्लोर करने के कई सारे मौके देती है। पलामू संस्कृति के मामले में भी काफी संपन्न है। पक्षी अभ्यारण्य, वॉटरफॉल्स और सेंचुरी के अलावा पलामू फोर्ट भी देखने वाली खूबसूरत जगह है।

बोकारो

बोकारो, झारखंड के टॉप टूरिस्ट डेस्टिनेशन में शामिल है। जो स्टील और कोयले इंडस्ट्री के लिए भी जाना जाता है। सोलो ट्रैवलिंग के लिए ये जगह काफी अच्छी है। काली मंदिर, जवाहर नेहरू बॉयोलॉजिकल पार्क और राम मंदिर घूमना यादगार एक्सपीरिएंस रहेगा।

हजारीबाग

हजारीबाग में हरे-भरे बागानों, मंदिरों, पहाड़ों, झरनों और वाइल्डलाइफ सेंचुरी की भरमार है। एडवेंचर के साथ सुकून के पल बिताने के लिए आप यहां आने का प्लान बना सकते हैं।

झारखंड का खानपान

लिट्टी-चोखे का जो स्वाद आपको यहां मिलेगा वैसा शायद ही किसी दूसरी जगह चखने को मिले। आदिवासी लोग खाने के लिए काफी हद तक पेड़-पौधों पर निर्भर रहते हैं जिसे आप यहां आकर आसानी से देख सकते हैं। शाकाहारी के साथ-साथ मांसाहारी खाने में भी अलग ही स्वाद होता है क्योंकि इसमें हाथ से पीसे मसालों का इस्तेमाल किया जाता है। दही और चिवड़ा नाश्ते में खाया जाता है जो हल्का और सुपाच्य होने के साथ ही आपको पूरे दिन एक्टिव और एनर्जेटिक रखता है।

कब आएं

झारखंड घूमने के लिए नवंबर से फरवरी का समय बिल्कुल सही होता है जब आप सुहाने मौसम के साथ आसपास के नज़ारों का मज़ा ले सकते हैं।

कैसे पहुंचे

हवाई मार्ग- रांची का बिरसामुंडा, झारखंड आने के लिए सबसे नज़दीकी एयरपोर्ट है।

रेल मार्ग- झारखंड के लिए लगभग सभी बड़ों शहरों से ट्रेन की सुविधा अवेलेबल है।

सड़क मार्ग- NH23 और NH33 द्वारा आप आसानी से यहां पहुंच सकते हैं।

Loading...

Check Also

किन्नरसानी वन्यजीव अभयारण्य है लुप्तप्राय जीव-जंतु और पेड़-पौधों का घर

किन्नरसानी वन्यजीव अभयारण्य है लुप्तप्राय जीव-जंतु और पेड़-पौधों का घर

यह तेलंगाना राज्य के भद्री कोथगुडेम जिले में स्थित है। अभयारण्य खम्मम जिले के पलोनचा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com