कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए अब जर्मनी में एयर ट्रेवल बैन की हो रही मांग…..

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए अब जर्मनी में हवाई यात्रा पर रोक लगाने की मांग उठने लगी है। इस मांग को उठाने वाले जर्मनी के ही सांसद हैं। इनका मानना है कि वायरस के अलग-अलग प्रकार सामने आने और इसके लगातार म्‍यूटेशन की वजह से हवाई यात्रा को रोकने पर विचार करना बेहद जरूरी हो गया है। सरकार को इस बारे में जल्‍द विचार कर कोई फैसला लेना चाहिए।

हालांकि जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ट्रेवल बैन करने के हक में नहीं है। इस बात की जानकी देश के गृहमंत्री होर्स्ट जेहोफर ने दी है। उनका कहना है कि चांसलर ट्रेवल बैन के हक में नहीं हैं। साथ ही उन्‍होंने ये भी कहा कि मर्केल ने राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों से उन सभी उपायों पर गौर करने के लिए भी कहा है कि जिससे देश में कोरोना के बढ़ते मामलों पर काबू पाया जा सके। गौरतलब है कि यूरोपीय देशों में फैले कोरोना संक्रमण के मामले में जर्मनी छठे नंबर पर है। इससे ऊपर तुर्की, इटली, स्‍पेन, फ्रांस, ब्रिटेन का नाम है। आपको ये भी बता दें कि इजरायल ने कोरोना पर काबू पाने के लिए सभी तरह के एयर ट्रेवल पर बैन लगाया हुआ है। वहीं यूरोप के कुछ अन्‍य देशों ने भी इसी तरह के एहतियाती कदम अपने यहां पर उठाए हैं।

आपको यहां पर ये भी बता दें कि कोरोना वैक्‍सीन होने के बाद भी इसके बढ़ते मामलों ने देश की सरकार के तौर तरीकों पर प्रश्‍न चिंह लगाने का काम किया है। इसको लेकर पिछले दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक पोस्‍ट की भी सच्‍चाई अब सामने आ चुकी है। दरअसल, इस पोस्‍ट में कहा जा रहा था कि कोविड-19 वैक्‍सीन लगाने के बाद से जर्मनी में दस लोगों की मौत हो चुकी है। ये पोस्‍ट कई देशों में फेसबुक के तहत वायरल हो रहा था। इसमें ये भी कहा जा रहा था कि ये वैक्‍सीन खतरनाक है। इस पर जर्मनी के Paul Ehrlich Institute की प्रवक्‍ता ने एएफपी को बताया कि जर्मनी में दिसंबर 2020 से लेकर अब तक करीब 21 मौत हुई हैं। लेकिन इनमें से किसी भी मौत का संबंध या वजह कोविड-19 वैक्‍सीन नहीं थी। इस लिहाज से इस पोस्‍ट के जरिए लेागों को गुमराह करने का काम किया जा रहा था। उनके मुताबिक इन मौतों और वैक्‍सीन का आपस में कोई संबंध सामने नहीं आया है। उन्‍होंने एक ईमेल के माध्‍यम से एएफपी को इस बारे में जानकारी मुहैया करवाई है।

वहीं देश में बढ़ रहे कोरोना के मामलों की जानकारी देते हुए देश के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा है कि जर्मनी में ब्रिटिश कंपनी एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन की करीब 30 लाख खुराक फरवरी 2021 तक पहुंच जाएंगी। उनका कहना है कि कंपनी द्वारा वैक्‍सीन प्रोडेक्‍शन में आई रुकावटों के चलते इसमें कुछ समय की देरी हुई है। कंपनी ने इसकी जानकारी यूरोपीयन यूनियन के अधिकारियों को भी दे दी है। इसके मुताबिक इस वर्ष के पहले तीन माह में कंपनी कुल खुराक का करीब 60 फीसद डिलीवर कर देगी। गौरतलब है कि जर्मनी में कोरोना संक्रमण के मामलों की संख्‍या 2,170,741 तक जा पहुंची है जबकि इसकी वजह से 54,498 मरीजों की मौत भी हो चुकी है।

वहीं 1,755,983 ठीक भी हुए हैं। जहां तक देश में कोरोना पर काबू पाने के लिए एयर ट्रेवल लगाने की बात है तो इसकी भी जानकारी उन्‍होंने पत्रकारों को दी है। गौरतलब है कि कोरोना महामारी की चपेट में आने के बाद भी जर्मनी अप्रैल 2020 में हवाई सफर जारी रखे हुए था। इसके बाद अगस्‍त में इसमें और तेजी आई थी। हालांकि नवंबर में इसमें गिरावट आई थी। वर्तमान में जर्मनी में हर रोज करीब 9 हजार उड़ानें संचालित की जा रही है। सरकार की तरफ से ये भी संकेत मिले हैं कि वो इन्‍हें घटाकर चार हजार तक कर सकती है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button