सबसे ज्यादा ‘कालाधन’ किन्नरों के पास, सुबह से बैंकों की लाइन में लगे…

NEW DELHI : किन्नर आपको शादी और सेलिब्रेशन के माहौल में ही दिखाई देते हैं। लेकिन समाज की मुख्यधारा से कटे रहने वाले किन्नरों को बैंको की लाइन में देखा जा सकता है। 500-1000 के नोट बंद होने से किन्नर समाज में भी बड़ी बैचेनी है। ‘काले धन’ वालों के बाद अगर सबसे ज्यादा कैश किसी के पास है तो वह किन्नर ही हैं।  इनके धन को ‘काला’ नहीं कह सकते, क्योंकि ये न्यौछावर के रुपये होते हैं।

सबसे ज्यादा 'कालाधन' किन्नरों के पास, सुबह से बैंकों की लाइन में लगे...
ये अलग बात है कि न्यौछावर से ही एक-एक किन्नर टोली के पास लाखों का कैश और ज्वेलरी होती है, जिसका एक बड़ा हिस्सा खुद ही संभालकर रखते हैं। आमतौर पर किन्नर बैंक जाने से गुरेज रखते हैं, लेकिन पुराने नोट बंद करने के फैसले ने किन्नरों में भी हड़कंप मचा दिया है।
माना जा रहा है कि सिर्फ राजधानी में ही किन्नरों के पास जमा करोड़ों रुपयों के ढेर बैंक पहुंचने वाले हैं। इसका आभास आज सुबह विकास मार्ग पर किन्नरों की एक टोली देखकर हुआ, जो लक्ष्मी नगर विकास मार्ग पर बैंक ऑफ बड़ौदा के बाहर सुबह 8:15 बजे ही पहुंच गई थी।
ये टोली कार में आई। उनकी गुरू गाड़ी के अंदर ही बैठी थीं। बाकी शिष्य बैंक खुलने के इंतजार में बाहर खड़े थे। जाहिर हो रहा था कि इतने लोग मोटा कैश जमा कराने पहुंचे थे।
 
 
Back to top button