एक स्टूडेंट ने Snapdeal से सिर्फ़ 68 रुपये में खरीदा iPhone 5S, तरीका जानकर हिल जाओगे..

आजकल इंटरनेट यूज़र्स के लिए ऑनलाइन शॉपिंग कोई नया शब्द नहीं है, ख़रीदारी के शौकीनों के लिए ऑनलाइन शॉपिंग, ख़रीदारी करने का सबसे आसान ज़रिया बन गया, एक क्लिक और जितनी चाहे उतनी शॉपिंग. मेट्रो सिटीज़ में ही नहीं, छोटे शहरों में भी ऑनलाइन शॉपिंग का क्रेज़ तेजी से बढ़ रहा है. कपड़ें हो या इलेक्ट्रॉनिक्स, लोग सस्ती से लेकर महंगी चीज़ें इंटरनेट से खरीदना पसंद कर रहे हैं.
ऑनलाइन शॉपिंग की कुछ वेबसाइट में से एक Snapdeal आजकल काफ़ी चर्चा में है. कुछ टाइम पहले आपने सुना होगा कि बी-टेक के एक स्टूडेंट ने Snapdeal को लाखों का चूना लगाया, हालांकि वो बाद में पकड़ा गया. लेकिन आज का मामला कुछ अलग है.

आजकल Snapdeal पर 28,999 में बिकने वाला iPhone 5S एक कॉलेज स्टूडेंट को मात्र 68रुपए में ही मिल गया. अरे रुकिए! अगर आप ये सोच रहे हैं कि ‘Lifehacks’ और Cashbakcs’ की वजह से उसको iPhone 5S इतना सस्ता मिल गया है, तो ये गलत है. Snapdeal की तरफ से एक डील के अंतर्गत ऐसा हुआ. इस डील के बारे में ख़ुद Snapdeal को ही नहीं पता चला. 

पंजाब यूनिवर्सिटी से बी-टेक कर रहे निखिल बंसल ने जब देखा कि iPhone पर 99.7% का डिस्काउंट मिल रहा है तो उसने तुरंत फ़ोन बुक कर दिया. निखिल की जगह कोई भी होता तो ऐसा ही करता.

निखिल ने मात्र 68 रुपए में 12 फरवरी को iPhone 5S आर्डर किया था और बेसब्री से अपना आर्डर आने का वेट कर रहा था, लेकिन फ़ोन नहीं आया. कस्टमर केयर पर कॉल करने पर उसे पता चला कि किसी Technical Error की वजह से iPhone 5S का रेट इतना कम आ रहा था, न कि Snapdeal की तरफ से ऐसा कोई Discount था.

जब फ़ोन नहीं आया तो निखिल ने Snapdeal के ख़िलाफ़ कंस्यूमर कोर्ट में याचिका दायर की.

पंजाब के संगरूर जिले में एक उपभोक्ता अदालत में शिकायत दाखिल कराने के बाद उसने आरोप लगाया कि Snapdeal ने ‘honor the deal’ से इनकार कर दिया है. उसके बाद अदालत ने Snapdeal को आदेश दिया कि निखिल को 68 रुपए में ही iPhone 5S दिया जाए. साथ ही Snapdeal जुर्माने के तौर पर उसे 2000 रुपए भी अदा करेगी.

Snapdeal ने कोर्ट के फैसले के ख़िलाफ़ याचिका दायर की

Snapdeal ने उपभोक्ता फोरम में कोर्ट के फैसले के ख़िलाफ़ याचिका दायर की, लेकिन इस बार Snapdeal को 10,000 रुपए का जुर्माना अदा करने के बाद केस को बंद करने का आदेश दिया गया.

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com