एक घंटे की मीटिंग में नरेंद्र मोदी ने आदित्‍य नाथ को दी एक बड़ी सलाह, पढ़े पूरी खबर

देश में सबसे ज्यादा राजनीतिक वजन रखने वाले सूबे उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद गोरखपुर के भाजपा सांसद योगी आदित्य नाथ मंगलवार (21 मार्च) को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले।

दोनों के बीच करीब एक घंटे तक चली मुलाकात में पीएम मोदी ने सीएम योगी को राज्य में सत्ता चलाने के लिए विशेष टिप्स दिए। योगी जब मंगलवार को संसद पहुंचे तो उन्होंने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और पीएम मोदी का उन्हें “मार्गदर्शन” देने के लिए आभार भी जताया।माना जा रहा है कि पीएम मोदी ने योगी को यूपी में कानून-व्यवस्था की स्थिति में उल्लेखनीय सुधार लाने के लिए कहा है। शायद यही वजह है कि मंगलवार को यूपी पुलिस के सभी जिला मुख्यालयों को 12 सूत्रीय आदेश भेजा गया। यूपी पुलिस को “एक महीने का विशेष अभियान चलाने” का कहा गया है।

इस अभियान के तहत प्रदेश के सभी इनामी बदमाशों और हत्या, अपहरण, डकैती जैसे गंभीर आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा। इस अभियान के तहत अपहरण के मामलों में “100 प्रतिशत रिकवरी” का लक्ष्य रखा गया है। यूपी में बलात्कार, छेड़खानी या यौन शोषण के आरोपियों पर “गुंडा एक्ट” लगाने का आदेश जारी किया गया है। यूपी पुलिस मनचलों से निपटने के लिए विशेष “एंटी-रोमियो स्क्वायड” भी बना रही है।12-सूत्रीय दिशा-निर्देश में गोहत्या और गायों की तस्करी के मामले में सख्त कदम उठाने का आदेश दिए गए हैं। आदेश में जमीन पर अवैध कब्जा करने वालों और अवैध शराब या ट्रांसपोर्ट रैकेट चलाने वालों पर रासुका और गैंगेस्टर एक्ट लगाने के लिए कहा गया है। लंबी समय से लंबित पड़े मामलों में यथाशीघ्र अदालत में आरोपपत्र दायर करने का आदेश दिया गया है।

योगी ने मंगलवार को संसद में अपने इरादे साफ करते हुए कहा था, “यूपी में बहुत कुछ बंद होगा।”माना जा रहा है कि पीएम मोदी के अलावा केंद्रीय मंत्रियों ने भी योगी को यूपी में सरकार चलाने का टिप्स दिया है। रिपोर्टों के अनुसार केंद्रीय मंत्रियों ने कहा है कि उन्हें केंद्र सरकार की योजनाओं को यूपी में अमलीजामा पहनाने पर विशेष ध्यान देना चाहिए। योगी ने संसद में दिए अपने भाषण में अखिलेश यादव सरकार द्वारा केंद्र से प्रदेश के लिए आवंटित राशि का बड़ा हिस्सा खर्च न करने का आरोप लगाया। उन्होंने पीएम मोदी द्वारा योगी के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर के लिए अनमोदित एम्स समेत अन्य योजनाओं का भी जिक्र किया।योगी ने सीएम बनने के बाद जिले में लाल बत्ती के प्रयोग पर रोकथाम के लिए आदेश जारी किया। साथ ही अखिलेश यादव सरकार द्वारा नियुक्त सभी गैर-सरकारी सलाहकारों को पद से हटा दिया। योगी मंगलवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और देश के गृह मंत्री राजनाथ सिंह से भी मिले। इतना ही नहीं यूपी का सीएम बनने के बाद योगी से मिलने के लिए भाजपा और गैर-भाजपा दलों के सांसदों के बीच होड़ देखी गयी। कुछ सांसद को तो उनसे मिलने के लिए घंटों इतंजार भी करना पड़ा।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button